Jul 4, 2021 · 1 min read

As we grow up

As we grow up..
We gain knowledge, we learn WORDS.
More we grow up..
We experience.
More we experience, we learn MEANINGS.

WORDS never pierce
But their MEANINGS do.
Silence of our dear ones
Hurts the innermost too.

Nectar

2 Likes · 2 Comments · 128 Views
You may also like:
मृत्यु के बाद भी मिर्ज़ा ग़ालिब लोकप्रिय हैं
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"हम ना होंगें"
Lohit Tamta
राम नाम ही परम सत्य है।
Anamika Singh
यौवन अतिशय ज्ञान-तेजमय हो, ऐसा विज्ञान चाहिए
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अब सुप्त पड़ी मन की मुरली, यह जीवन मध्य फँसा...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
हमारे पापा
पाण्डेय चिदानन्द
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
जंगल में कवि सम्मेलन
मनोज कर्ण
इन नजरों के वार से बचना है।
Taj Mohammad
दो बिल्लियों की लड़ाई (हास्य कविता)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
# पिता ...
Chinta netam मन
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
** यकीन **
Dr. Alpa H.
* उदासी *
Dr. Alpa H.
अरदास
Buddha Prakash
*माँ छिन्नमस्तिका 【कुंडलिया】*
Ravi Prakash
खाली मन से लिखी गई कविता क्या होगी
Sadanand Kumar
" मां" बच्चों की भाग्य विधाता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
नया सूर्योदय
Vikas Sharma'Shivaaya'
नित हारती सरलता है।
Saraswati Bajpai
जादूगर......
Vaishnavi Gupta
खींच तान
Saraswati Bajpai
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
मां
हरीश सुवासिया
💐💐प्रेम की राह पर-14💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आप कौन है
Sandeep Albela
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
* सत्य,"मीठा या कड़वा" *
मनोज कर्ण
बँटवारे का दर्द
मनोज कर्ण
Loading...