May 13, 2022 · 1 min read

Angad tiwari

गर्मी थी या ठंडी थी,
तू खुशियों की मंडी थी।

चौड़ी थी या सॅंकरी थी,
बड़ी दुलारी बखरी थी।

घर में आंगन होता था,
सुख का सावन होता था।

शिशू घुटुरवन चलते थे,
मिट्टी में ही पलते थे।

दिल जैसे घर होते थे,
जोड़े छुपकर सोते थे।

दीवारें थीं माटी की,
परंपरा-परिपाटी की।

दीवाली मुस्काती थी,
होली नाच दिखाती थी।

जब भी कभी सॅंवरती थी,
इंद्रपुरी तक मरती थी।

छत लकड़ी की होती थी,
मगर बड़ी सी होती थी।

नरिया-खपड़ा-कंगूरे,
दरवानी करते पूरे।

विरह व्यथा हिय होती थी,
ओरी छुप-छुप रोती थी।

इसके गजब हौंसले थे,
खग के कई घोंसले थे।

गौरैया की चूं -चूं -चूं,
सुबह-सुबह दिल जाती छू।

गर्मी में शीतल एहसास,
ठंडी में गर्मी का वास।

वर्षा ऋतु जब आती थी,
तो मस्ती भर जाती थी।

देहरी बोला करतीं थीं,
हिय पट खोला करतीं थीं।

तुलसी मेरे आंगन की,
घर-घर थी मनभावन की।

जीवन सदा संवारे थी,
घर में नहीं दिवारें थी।

डेबरी में पढ़ लेते थे,
हम जीवन गढ़ लेते थे।

आधुनिकता में झूल गए,
हम बखरी को भूल गए। रचनाकार. Angad tiwari

1 Like · 16 Views
You may also like:
"कर्मफल
Vikas Sharma'Shivaaya'
वृक्ष बोल उठे..!
Prabhudayal Raniwal
पिता कुछ भी कर जाता है।
Taj Mohammad
A wise man 'The Ambedkar'
Buddha Prakash
दोस्त जीवन में एक सच्चा दोस्त ज़रूर कमाना….
Piyush Goel
किस्मत एक ताना...
Sapna K S
अखबार ए खास
AJAY AMITABH SUMAN
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
आइसक्रीम लुभाए
Buddha Prakash
# उम्मीद की किरण #
Dr. Alpa H.
💐💐प्रेम की राह पर-11💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ये कैसा बेटी बाप का रिश्ता है?
Taj Mohammad
समुंदर बेच देता है
आकाश महेशपुरी
लाल टोपी
मनोज कर्ण
मिलन-सुख की गजल-जैसा तुम्हें फैसन ने ढाला है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जिंदगी ये नहीं जिंदगी से वो थी
Abhishek Upadhyay
दिनेश कार्तिक
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
साँप की हँसी होती कैसी
AJAY AMITABH SUMAN
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
💝 जोश जवानी आये हाये 💝
DR ARUN KUMAR SHASTRI
वीर चंद्र सिंह गढ़वाली पर दोहे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
तुम्हारे जन्मदिन पर
अंजनीत निज्जर
ऐसी बानी बोलिये
अरशद रसूल /Arshad Rasool
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण
अद्भभुत है स्व की यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
श्रद्धा और सबुरी ....,
Vikas Sharma'Shivaaya'
पत्ते ने अगर अपना रंग न बदला होता
Dr. Alpa H.
वार्तालाप….
Piyush Goel
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
Loading...