Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Sep 2022 · 1 min read

Advice

Be time conscious allocate time for every activity to be undertaken and arrange them in order of priority before putting them into action.

Language: English
Tag: Advice
1 Comment · 127 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.

Books from Shyam Sundar Subramanian

You may also like:
हे माधव
हे माधव
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मौत आने के बाद नहीं खुलती वह आंख जो जिंदा में रोती है
मौत आने के बाद नहीं खुलती वह आंख जो जिंदा में रोती है
Anand.sharma
इश्क़ में रहम अब मुमकिन नहीं
इश्क़ में रहम अब मुमकिन नहीं
Anjani Kumar
मैं
मैं "आदित्य" सुबह की धूप लेकर चल रहा हूं।
Dr. ADITYA BHARTI
किसने कहा, ज़िन्दगी आंसुओं में हीं कट जायेगी।
किसने कहा, ज़िन्दगी आंसुओं में हीं कट जायेगी।
Manisha Manjari
विश्व शांति की करें प्रार्थना, ईश्वर का मंगल नाम जपें
विश्व शांति की करें प्रार्थना, ईश्वर का मंगल नाम जपें
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कठपुतली की क्या औकात
कठपुतली की क्या औकात
Satish Srijan
*हिंदी हमारी शान है, हिंदी हमारा मान है*
*हिंदी हमारी शान है, हिंदी हमारा मान है*
Dushyant Kumar
उतर गया चढ़ा था जो आसमाँ में रंग
उतर गया चढ़ा था जो आसमाँ में रंग
'अशांत' शेखर
मा भारती को नमन
मा भारती को नमन
Bodhisatva kastooriya
शिल्पकार
शिल्पकार
Surinder blackpen
वीर तुम बढ़े चलो!
वीर तुम बढ़े चलो!
Divya Mishra
मकर संक्रांति पर्व
मकर संक्रांति पर्व
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"चाह"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
*जिसको सोचा कभी नहीं था, ऐसा भी हो जाता है 【हिंदी गजल/गीतिका
*जिसको सोचा कभी नहीं था, ऐसा भी हो जाता है 【हिंदी गजल/गीतिका
Ravi Prakash
पुकार
पुकार
Manu Vashistha
कभी भी ग़म के अँधेरों  से तुम नहीं डरना
कभी भी ग़म के अँधेरों से तुम नहीं डरना
Dr Archana Gupta
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
अपना...❤❤❤
अपना...❤❤❤
Vishal babu (vishu)
अवध से राम जाते हैं,
अवध से राम जाते हैं,
अनूप अम्बर
जाते-जाते गुस्सा करके,
जाते-जाते गुस्सा करके,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
■ मुक्तक...
■ मुक्तक...
*Author प्रणय प्रभात*
पहले एक बात कही जाती थी
पहले एक बात कही जाती थी
DrLakshman Jha Parimal
नाव मेरी
नाव मेरी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
असंवेदनशीलता
असंवेदनशीलता
Shyam Sundar Subramanian
तिरंगे के तीन रंग , हैं हमारी शान
तिरंगे के तीन रंग , हैं हमारी शान
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
आज की तारीख हमें सिखा कर जा रही है कि आने वाली भविष्य की तार
आज की तारीख हमें सिखा कर जा रही है कि आने वाली भविष्य की तार
Seema Verma
आज बहुत दिनों के बाद आपके साथ
आज बहुत दिनों के बाद आपके साथ
डा गजैसिह कर्दम
जीवन एक गुलदस्ता ..... (मुक्तक)
जीवन एक गुलदस्ता ..... (मुक्तक)
Kavita Chouhan
मिलो ना तुम अगर तो अश्रुधारा छूट जाती है ।
मिलो ना तुम अगर तो अश्रुधारा छूट जाती है ।
Arvind trivedi
Loading...