Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Dec 2022 · 1 min read

Advice

Respect humanity and fight for human rights and always extend your helping hand for the welfare of oppressed and downtrodden in the society.

Language: English
Tag: Quotation
71 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.

Books from Shyam Sundar Subramanian

You may also like:
ज़िन्दगी की तरकश में खुद मरता है आदमी…
ज़िन्दगी की तरकश में खुद मरता है आदमी…
Anand Kumar
मैं उसी पल मर जाऊंगा ,
मैं उसी पल मर जाऊंगा ,
श्याम सिंह बिष्ट
इंतजार करना है।
इंतजार करना है।
Anil chobisa
"बड़ा सवाल"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं तेरे अहसानों से ऊबर भी  जाऊ
मैं तेरे अहसानों से ऊबर भी जाऊ
Swami Ganganiya
■ जीवन दर्शन...
■ जीवन दर्शन...
*Author प्रणय प्रभात*
अन्न पै दाता की मार
अन्न पै दाता की मार
MSW Sunil SainiCENA
🌹प्रेम कौतुक-200🌹
🌹प्रेम कौतुक-200🌹
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
कभी कभी मन करता है या दया आती है और लगता है कि तुम्हे खूदकी औकात नापने का मौका द
कभी कभी मन करता है या दया आती है और लगता है कि तुम्हे खूदकी औकात नापने का मौका द
नव लेखिका
Fool's Paradise
Fool's Paradise
Shekhar Chandra Mitra
जन्मदिन की शुभकामना
जन्मदिन की शुभकामना
Satish Srijan
एक अबोध बालक
एक अबोध बालक
DR ARUN KUMAR SHASTRI
21वीं शादी और भारतीय युवा
21वीं शादी और भारतीय युवा
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
*कहाँ गईं वह हँसी-मजाकें,आपस में डरते हैं (हिंदी गजल/गीतिका
*कहाँ गईं वह हँसी-मजाकें,आपस में डरते हैं (हिंदी गजल/गीतिका
Ravi Prakash
चाँद  भी  खूबसूरत
चाँद भी खूबसूरत
shabina. Naaz
आत्म संयम दृढ़ रखों, बीजक क्रीड़ा आधार में।
आत्म संयम दृढ़ रखों, बीजक क्रीड़ा आधार में।
Er.Navaneet R Shandily
शब्द कम पड़ जाते हैं,
शब्द कम पड़ जाते हैं,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
कविता
कविता
ashok dard
आख़िरी सफऱ
आख़िरी सफऱ
Dr. Rajiv
खुद ही रोए और खुद ही चुप हो गए,
खुद ही रोए और खुद ही चुप हो गए,
Vishal babu (vishu)
जब कभी  मिलने आओगे
जब कभी मिलने आओगे
Dr Manju Saini
जब साथ तुम्हारे रहता हूँ
जब साथ तुम्हारे रहता हूँ
Ashok deep
स्थायित्व कविता
स्थायित्व कविता
Shyam Pandey
डोला कड़वा -
डोला कड़वा -
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
स्वजातीय विवाह पर बंधाई
स्वजातीय विवाह पर बंधाई
Vijay kannauje
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
अरे ये कौन नेता हैं, न आना बात में इनकी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ठोकर भी बहुत जरूरी है
ठोकर भी बहुत जरूरी है
Anil Mishra Prahari
कोई मोहताज
कोई मोहताज
Dr fauzia Naseem shad
अब तक नहीं मिला है ये मेरी खता नहीं।
अब तक नहीं मिला है ये मेरी खता नहीं।
सत्य कुमार प्रेमी
Loading...