Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 18, 2017 · 1 min read

_- आओ थोड़ा दर्द बांट लें -_

आओ साथ निभाएं सबका, आओ साथ निभाएं।
हर दिल को हर्षाएं आओ, हर मन को दुलराएं।

रोतों का रोना हम ले लें, अपनी हंसी का इक टुकड़ा देकर।
भूखे को खुश कर दें खुद, की रोटी से टुकड़ा देकर।
छोटी छोटी खुशियाँ दे, हम उनके दुख को बटाएं।
आओ साथ निभाएं सबका, आओ साथ निभाएं।
हर दिल को हर्षाएं आओ, हर मन को दुलराएं।

रोगी, वृद्ध और बालक का, हम हरदम साथ निभाएं।
सूरदास को राह दिखाएं, हम कमज़ोरों को संभालें।
दुआ करें भगवान् से इनके, सब कष्टों को मिटाएं।
आओ साथ निभाएं सबका आओ साथ निभाएं।
हर दिल को हर्षाएं आओ, हर मन को दुलराएं।

—रंजना माथुर दिनांक 18/09/2017
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

205 Views
You may also like:
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
गुलामी के पदचिन्ह
मनोज कर्ण
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
तीन किताबें
Buddha Prakash
माँ की परिभाषा मैं दूँ कैसे?
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
कोशिशें हों कि भूख मिट जाए ।
Dr fauzia Naseem shad
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️क्या सीखा ✍️
Vaishnavi Gupta
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
दर्द इतने बुरे नहीं होते
Dr fauzia Naseem shad
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
पिता जी
Rakesh Pathak Kathara
Loading...