Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 24, 2017 · 1 min read

=_= असत् पर सत् की विजय =_=

दंभ आडम्बर छल प्रपंच का परिचायक था रावण।
सत्य पौरुष मर्यादा व संयम के प्रतीक थे राम।
असत्य पर सत्य की जय है विजयादशमी,
बुराई पर अच्छाई की जीत है दशहरा।
श्री राम ने वध किया असत रूपी रावण का,
तभी उदित हुआ एक रामराज्य सुनहरा।
जलाते हैं हम उस दशानन के साथ साथ,
दसों दिशाओं की बुरी हवाएं बुरी बलाएं।
घमण्ड,अहंकार,दंभ,मद,क्रोध और गरूर,
क्षण मात्र में ही सब, हो जाते हैं चूर चूर।
जब सत्य संग पुरुषार्थ, आ खड़ा होता है सामने,
तब असत्य व बुराई लगती है बगलें झांकने।
जब जब सिर उठाती है दुष्टों की पराकाष्ठा,
तब तब उस पर भारी पड़ती है मानवता की आस्था।
यही सीख देता है हमें हर बार यह त्यौहार,
इसीलिये हम करते हैं रावण रूपी राक्षस का
दहन बार बार।

—रंजना माथुर दिनांक 20/09/2017
मेरी स्व रचित व मौलिक रचना
©

319 Views
You may also like:
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
हम सब एक है।
Anamika Singh
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Keshi Gupta
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Little sister
Buddha Prakash
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
रफ्तार
Anamika Singh
पापा
सेजल गोस्वामी
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
प्यार
Anamika Singh
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बुध्द गीत
Buddha Prakash
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
दिलों से नफ़रतें सारी
Dr fauzia Naseem shad
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
पिता
Aruna Dogra Sharma
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बेटियां
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
Loading...