Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 15, 2017 · 1 min read

२१२२–१२१२–२२
आ रहा है कोई

पास दिल के भी आ रहा है कोई
ख्वाब मेरे सजा रहा है कोई

ज़िंदगी फिर से जी गये हम तो
प्यार हमसे जता रहा है कोई

महफ़िलो की कभी जो रौनक थी
फ़ब्तियों से मिटा रहा है कोई

छुप रहा है गुनाह अंधेरो में
आइनो को छुपा रहा है कोई

आग कैसी लगी है वीरां में
यादे किसकी मिटा रहा है कोई

अश्क आखिरश सूखने ही थे
चश्म ऐ दिल चुरा रहा है कोई

3 Likes · 2 Comments · 285 Views
You may also like:
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जब गुलशन ही नहीं है तो गुलाब किस काम का...
लवकुश यादव "अज़ल"
ज़िंदगी में न ज़िंदगी देखी
Dr fauzia Naseem shad
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*जय हिंदी* ⭐⭐⭐
पंकज कुमार कर्ण
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
प्यार की तड़प
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
भारत भाषा हिन्दी
शेख़ जाफ़र खान
सो गया है आदमी
कुमार अविनाश केसर
जीवन में
Dr fauzia Naseem shad
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
चोट गहरी थी मेरे ज़ख़्मों की
Dr fauzia Naseem shad
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दुनिया की आदतों में
Dr fauzia Naseem shad
आंसूओं की नमी
Dr fauzia Naseem shad
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
पिता
Shankar J aanjna
मेरी लेखनी
Anamika Singh
पितृ स्तुति
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
बहुत प्यार करता हूं तुमको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उस पथ पर ले चलो।
Buddha Prakash
पिता मेरे /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...