Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 12, 2017 · 1 min read

मापनी 221 2121 1221 212
गीत:- मिलती है ज़िन्दगी में मुहब्बत कभी कभी
?????उम्दा मिसरा की बधाई सर??

दामन पकड़ लिया तो छुड़ाया न जायेगा
——–

चिलमन गिरा दिया तो उठाया न जायेगा
कातिल किसी तरह से बचाया न जायेगा

छुप-छुप के मिलने आती हूँ हर इक निगाह से
पर इस तरह से रोज़ तो आया न जायेगा

आँखों से तेरी पीके चढ़ा जो नशा मुझे
लफ़्ज़ों से सिर्फ़ उसको जताया न जायेगा
?
है इश्क का असर ये कि मैं तुमसे क्या कहूँ
दामन पकड़ लिया तो छुड़ाया न जायेगा

कह दो जो दिल में बात है पर्दो में कुछ नहीं
मौक़ा तो ऐसा फिर से चुराया न जायेगा

तुम मुझमें यूं रहो न कोई दरमियां रहे
जीवन तिरे बिना तो बिताया न जायेगा

भूला है आज हमको ज़माना तो ग़म नहीं
कल देखना कि हमको भुलाया न जायेगा

खाली रहा है प्यार से दामन मिरा तो क्या
यादो की रौशनी को बुझाया न जायेगा

मजबूर इतनी कोकिला है इश्क में तिरे
अब उससे तुझसे दूर भी
जाया न जायेगा

कोकिला अग्रवाल

2 Likes · 1 Comment · 194 Views
You may also like:
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
बेरूखी
Anamika Singh
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
सूरज से मनुहार (ग्रीष्म-गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
पवनपुत्र, हे ! अंजनि नंदन ....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दिल में बस जाओ तुम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
तुम हमें तन्हा कर गए
Anamika Singh
अनामिका के विचार
Anamika Singh
If we could be together again...
Abhineet Mittal
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
लकड़ी में लड़की / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
श्रीमती का उलाहना
श्री रमण 'श्रीपद्'
जिंदगी
Abhishek Pandey Abhi
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता की याद
Meenakshi Nagar
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
Loading...