Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 12, 2017 · 1 min read

२१२२–२१२२–२१२२–२१२
आ सकते नहीं

दिल बहलता ही नहीं हम ये बता सकते नहीं
प्यार में हारे हैं दिल अपना जता सकते नहीं

ख्वाइशो के पर लगे थे आसमा को थी खबर
बंदिशे इतनी कि हद अपनी भुला सकते नहीं

मुश्किलो को रौंदकर हम यूं तो आगे चल दिये
ज़ख्म सीने में लगे तुमको दिखा सकते नहीं

उम्र का ये दौर है अब थक गये हैं हौसले
थामना था जिनको उनको तो सुना सकते नहीं

नस्ल ये कैसी बनी तोड़े हमारे सब भरम
परवरिश अपनी ही थी उँगली उठा सकते नहीं

जिस्म खाली हो गया आंसू भी खारिज कर दिये
हाल ये खुल कर भी अब हम मुस्कुरा सकते नहीं

हमसे अच्छे और हैं ये मानते हैं हम सनम
तुमसे भी अच्छे जहां में तुम मिटा सकते नहीं

सुर्ख से सपने सजाकर ज़िंदगी से जब मिले
भूल थी वो अब विवशता कुछ मिटा सकते नहीं

1 Like · 205 Views
You may also like:
"कल्पनाओं का बादल"
Ajit Kumar "Karn"
''प्रकृति का गुस्सा कोरोना''
Dr Meenu Poonia
किसी का होके रह जाना
Dr fauzia Naseem shad
जीवन संगनी की विदाई
Ram Krishan Rastogi
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
झूला सजा दो
Buddha Prakash
पिता
Shankar J aanjna
समय ।
Kanchan sarda Malu
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
पिता की याद
Meenakshi Nagar
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
हमसे न अब करो
Dr fauzia Naseem shad
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
श्रीमती का उलाहना
श्री रमण 'श्रीपद्'
मर गये ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
मेरी तकदीर मेँ
Dr fauzia Naseem shad
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...