Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 12, 2017 · 1 min read

१२२२–१२२२–१२२
आ रहूंगा

अकेला जान घबराना नहीं तू
मैं तेरे साथ बन साया रहूंगा

तुम्हारी चाहतो में था हमेशा
कहो तो कैसे अंजाना रहूंगा

तेरी आंखो में कैसी थी शरारत
मैं पूरी रात ही बहका रहूंगा

गुमा तुमको अगरचे हुस्न का है
तो गोया उम्र भर डूबा रहूंगा

चुरा लूंगा तेरी आंखो के मोती
हंसी बन होठों पर खिलता रहूंगा

खयालो में मेरे अब तू ही तू है
खयालो में ही मैं ज़िंदा रहूंगा

शरीफ़ो में मेरा भी नाम है अब
तेरे सजदे में ही जीता रहूंगा

1 Like · 172 Views
You may also like:
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
फौजी बनना कहाँ आसान है
Anamika Singh
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
घनाक्षरी छन्द
शेख़ जाफ़र खान
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
जो दिल ओ ज़ेहन में
Dr fauzia Naseem shad
मुझे आज भी तुमसे प्यार है
Ram Krishan Rastogi
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
बड़ी मुश्किल से खुद को संभाल रखे है,
Vaishnavi Gupta
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
रोटी संग मरते देखा
शेख़ जाफ़र खान
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
✍️काश की ऐसा हो पाता ✍️
Vaishnavi Gupta
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
अरदास
Buddha Prakash
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
ज़िंदगी को चुना
अंजनीत निज्जर
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
पिता की याद
Meenakshi Nagar
Loading...