Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Sep 12, 2017 · 1 min read

२१२२–११२२–११२२–२२
आयें कैसे

जाने वाले भी भला लौटके आयें कैसे
कशमकश ये है कि हम उनको भुलायें कैसे

आज हम रूठ गये उनसे तो मुश्किल होगी
वो भी रूठें हैं अभी हमसे मनायें कैसे

जाने कब बंट गये हम खुद ही पशेमां से हैं
सोचते हैं इन लकीरो को मिटायें कैसे

मेरी मिट्टी में है जां मेरी सुकूं दिल का है
तेरे कर्जे का लहू मेरा लुटायें कैसे

मैं दिलो जान से हाजिर हूं वतन की खातिर
मेरे पंखो में है परवाज़ बतायें कैसे

क्यूं नहीं रहते सभी मुल्क अपने हिस्से में
छोड़ना तेरा मेरा हैं ये सुझायें कैसे

राज जीवन का नहीं कुछ बस मुहब्बत यारो
प्यार ने जीती कई जंग बतायें कैसे

2 Likes · 278 Views
You may also like:
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
कोई खामोशियां नहीं सुनता
Dr fauzia Naseem shad
पितृ स्वरूपा,हे विधाता..!
मनोज कर्ण
✍️गुरु ✍️
Vaishnavi Gupta
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
छीन लेता है साथ अपनो का
Dr fauzia Naseem shad
पिता का सपना
श्री रमण 'श्रीपद्'
वो बरगद का पेड़
Shiwanshu Upadhyay
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
समसामयिक बुंदेली ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
माँ — फ़ातिमा एक अनाथ बच्ची
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
पीकर जी भर मधु-प्याला
श्री रमण 'श्रीपद्'
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
आदर्श पिता
Sahil
दहेज़
आकाश महेशपुरी
पढ़वा लो या लिखवा लो (शिक्षक की पीड़ा का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मोर के मुकुट वारो
शेख़ जाफ़र खान
मृत्यु या साजिश...?
मनोज कर्ण
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
"चरित्र और चाय"
मनोज कर्ण
Loading...