Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Mar 23, 2019 · 1 min read

865 देश के वीर

देश के वीरों ने दे कर जान।
मां भारत की रखी शान।

दि धी आजादी की जंग को चिंगारी।
भारत माँ सदा तुम्हारी रहेगी आभारी।

तुम थे देश के सच्चे सपूत।
ऐसी कि तुमने करतूत।

देखते रह गए बैठे अंग्रेज।
दीवानों ने अपना लक्ष्य दिया भेद।

जो ठाना था कर दिखाया।
असेंबली में बम गिराया।

फिर भी देखो डरे नहीं।
कोई भी जुबान से मुकरा नहीं।

डर नहीं किसी को, जो आए मौत।
यह तो उन वीरों के लिए थी सौगात।

अमर हो गए वह सूली पर चढ़कर।
देश ने भी नारे लगाए बढ़ चढ़कर।

रखना यह आजादी संभाल के।
जो मिली है जान कुर्बान से।

इस देश को करना तुम प्यार।
यही होगा उन पर उपकार।

देश को एक बार फिर बचाना गद्दारों से।
नहीं तो फिर झूलना पड़ेगा मीनारों पे।

जान से कीमत चुकानी पड़ेगी।
आजा़दी फिर भी महंगी पड़ेगी।

रखना तुम आजादी को संभाल।
उनकी कुर्बानी ना जाए बेकार।

वो हो गये हँस कर कुर्बान।
बोलकर भारत माता की जय जयकार।

1 Like · 105 Views
You may also like:
निशां मिट गए हैं।
Taj Mohammad
*रामभक्त हनुमान (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
🌺🌺मूले वयं परमात्मनः अंशः🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
# दोस्त .....
Chinta netam " मन "
तुम भी न पा सके
Dr fauzia Naseem shad
रावण का मकसद, मेरी कल्पना
Anamika Singh
#जातिबाद_बयाना
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
तितली रानी (बाल कविता)
Anamika Singh
तेरा एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
हमारे जीवन में "पिता" का साया
इंजी. लोकेश शर्मा (लेखक)
मेरी बेटी है, मेरा वारिस।
लक्ष्मी सिंह
मेरे दिल को
Shivkumar Bilagrami
बूंद बूंद में जीवन है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मंजिल की उड़ान
AMRESH KUMAR VERMA
लघुकथा: ऑनलाइन
Ravi Prakash
तिरंगा चूमता नभ को...
अश्क चिरैयाकोटी
कर लिया याद में
Dr fauzia Naseem shad
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
" दिव्य आलोक "
DrLakshman Jha Parimal
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
जमाने मे जिनके , " हुनर " बोलते है
Ram Ishwar Bharati
राई का पहाड़
Sangeeta Darak maheshwari
पुरी के समुद्र तट पर (1)
Shailendra Aseem
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
गीता की महत्ता
Pooja Singh
*नेताजी : एक रहस्य* _(कुंडलिया)_
Ravi Prakash
आप कौन है
Sandeep Albela
"अशांत" शेखर भाई के लिए दो शब्द -
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
//स्वागत है:२०२२//
Prabhudayal Raniwal
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...