Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Nov 9, 2016 · 1 min read

500 और 1000/मंदीप

500 और 1000/मंदीप

देखो मच गया आज फिर हाहाकार,
पाँच सौ और हजार के नोटो पर सब कर रहे विचार।

समय का चक्र ऐसा चला,
हजार का नोट भी हुआ लाचार।

करते थे जो गमंड काले धन पर,
धन वो हो गया आज सब बेकार।

होगा ना अब कभी इकट्टा काला धन,
देखो चिप वाले नोट ले आई मोदी सरकार।

ना बिगड़ा”मंदीप” कुछ भी बेइमानो का,
या तो फिर से पड़ी आम आदमी पर मार।

मंदीपसाई

178 Views
You may also like:
बुद्ध धाम
Buddha Prakash
अपना लो मुझे अभी...
Dr. Alpa H. Amin
महिलाओं वाली खुशी "
Dr Meenu Poonia
साहित्यकारों से
Rakesh Pathak Kathara
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
माँ
Dr Archana Gupta
गुनहगार बन गए है।
Taj Mohammad
सर रख कर रोए।
Taj Mohammad
यकीन
Vikas Sharma'Shivaaya'
पापा की परी...
Sapna K S
पिता का प्यार
pradeep nagarwal
तनिक पास आ तो सही...!
Dr. Pratibha Mahi
💐💐प्रेम की राह पर-19💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
उपहार की भेंट
Buddha Prakash
तुम निष्ठुर भूल गये हम को, अब कौन विधा यह...
संजीव शुक्ल 'सचिन'
सत्य भाष
AJAY AMITABH SUMAN
एक असमंजस प्रेम...
Sapna K S
इंसानियत
AMRESH KUMAR VERMA
✍️सिर्फ दो पल...दो बातें✍️
"अशांत" शेखर
एक मुर्गी की दर्द भरी दास्तां
ओनिका सेतिया 'अनु '
हे राम! तुम लौट आओ ना,,!
ओनिका सेतिया 'अनु '
बड़े पाक होते हैं।
Taj Mohammad
ज़िन्दगी के किस्से.....
Chandra Prakash Patel
एक दुखियारी माँ
DESH RAJ
हे गुरू।
Anamika Singh
मन पीर कैसे सहूँ
Dr. Sunita Singh
कभी-कभी आते जीवन में...
डॉ.सीमा अग्रवाल
मौत बाटे अटल
आकाश महेशपुरी
💐💐स्वरूपे कोलाहल: नैव💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
शेर
dks.lhp
Loading...