Sep 7, 2016 · 1 min read

3. पुकार

सुनो क्यूँ करते हो तुम ऐसा जब भी कुछ कहना चाहती हूँ दिल से ,
समझते ही नहीं मुझे ,जानते हो न मुझे आदत है यूँ ही आँसू बहाने की !

क्यूँ करते हो तुम ऐसा ,क्यूँ नहीं समझते मेरे जज्बात ,मेरी दिल्लगी ,

कल जब हम न होंगे तो , किसको सुनाओगे कहानी अपने दिल की !

आज वक़्त है तुम्हारा तो जलजले दिखाते हो ,कहती हूँ फिर दिल से ,

दूर नहीं वो दिन बगाबत पर उतर आएगी ,जब ये मेरे दिल की लगी !

क्यूँ अच्छा लगता है तुम्हें मेरा हर पल आंसुओं में डूबा हुआ चेहरा ,

क्यूँ नहीं आई होठों पर कभी हंसी और मुस्कराहट सुहानी सी !

चलो देखते हैं कब दौर खत्म होगा मेरी जिंदगानी के पल पल ढलते ,

खून और जलती हुई चिंगारियों का !
सहनशीलता की पराकाष्ठा बहुत है , शायद टूटना मुश्किल है मेरा ,

यही तो जिंदगी है और यही जिंदगी की समरसता है आज भी ,

चलो छोड़ो रहने दो तुम नहीं समझोगे कभी मुझे अपना दिल से !!

1 Comment · 308 Views
You may also like:
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
वेदना जब विरह की...
अश्क चिरैयाकोटी
पापा की परी...
Sapna K S
அழியக்கூடிய மற்றும் அழியாத
Shyam Sundar Subramanian
!! ये पत्थर नहीं दिल है मेरा !!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
लगा हूँ...
Sandeep Albela
कलयुग का आरम्भ है।
Taj Mohammad
ये नारी है नारी।
Taj Mohammad
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
माँ पर तीन मुक्तक
Dr Archana Gupta
हम एक है
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"हमारी मातृभाषा हिन्दी"
Prabhudayal Raniwal
कोई तो दिन होगा।
Taj Mohammad
=*बुराई का अन्त*=
Prabhudayal Raniwal
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
काबुल का दंश
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
सोचता रहता है वह
gurudeenverma198
विसाले यार
Taj Mohammad
पिता कुछ भी कर जाता है।
Taj Mohammad
【25】 *!* विकृत विचार *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
प्रेम...
Sapna K S
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
बहते अश्कों से पूंछो।
Taj Mohammad
प्रेम
Dr.sima
पिता
कुमार अविनाश केसर
गर्मी का कहर
Ram Krishan Rastogi
दहेज़
आकाश महेशपुरी
मजदूर हूॅं साहब
Deepak Kohli
आद्य पत्रकार हैं नारद जी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
Loading...