Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Mar 2023 · 1 min read

2244.

2244.
💥 यूं पत्थर भी भगवान बनते हैं 💥
2212 2212 22
सच जानकर अनजान बनते हैं ।
कुछ समझ रख नादान बनते हैं ।।
ना परख रखते आज हीरे की ।
यूं पत्थर भी भगवान बनते हैं ।।
गहरा यहाँ सागर नहीं बहता।
लहरें कहीं तूफान बनते हैं ।।
अनमोल नाते जिंदगी बदले ।
दिलदार किस्मत जहान बनते हैं
मौका अक्सर मिलते यहाँ खेदू ।
अपनी जहाँ पहचान बनते हैं ।।
………….✍प्रो .खेदू भारती”सत्येश”
21-3-2023मंगलवार

70 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.
You may also like:
तू जो लुटाये मुझपे वफ़ा
तू जो लुटाये मुझपे वफ़ा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
सागर में अनगिनत प्यार की छटाएं है
सागर में अनगिनत प्यार की छटाएं है
'अशांत' शेखर
💐अज्ञात के प्रति-107💐
💐अज्ञात के प्रति-107💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बचपन की सुनहरी यादें.....
बचपन की सुनहरी यादें.....
Awadhesh Kumar Singh
दृढ़ निश्चय
दृढ़ निश्चय
RAKESH RAKESH
आज तो ठान लिया है
आज तो ठान लिया है
shabina. Naaz
वो मुझ को
वो मुझ को "दिल" " ज़िगर" "जान" सब बोलती है मुर्शद
Vishal babu (vishu)
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पहले एक बात कही जाती थी
पहले एक बात कही जाती थी
DrLakshman Jha Parimal
अनेकों ज़ख्म ऐसे हैं कुछ अपने भी पराये भी ।
अनेकों ज़ख्म ऐसे हैं कुछ अपने भी पराये भी ।
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कलम
कलम
शायर देव मेहरानियां
बदल लिया ऐसे में, अपना विचार मैंने
बदल लिया ऐसे में, अपना विचार मैंने
gurudeenverma198
"आकुलता"- गीत
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मेरे हिसाब से सरकार को
मेरे हिसाब से सरकार को
*Author प्रणय प्रभात*
रोज डे पर रोज देकर बदले में रोज लेता है,
रोज डे पर रोज देकर बदले में रोज लेता है,
डी. के. निवातिया
मायापुर यात्रा की झलक
मायापुर यात्रा की झलक
Pooja Singh
तब मैं कविता लिखता हूँ
तब मैं कविता लिखता हूँ
Satish Srijan
आलिंगन शहद से भी अधिक मधुर और चुंबन चाय से भी ज्यादा मीठा हो
आलिंगन शहद से भी अधिक मधुर और चुंबन चाय से भी ज्यादा मीठा हो
Aman Kumar Holy
आस
आस
Dr. Rajiv
मानस तरंग कीर्तन वंदना शंकर भगवान
मानस तरंग कीर्तन वंदना शंकर भगवान
पागल दास जी महाराज
काश तू मौन रहता
काश तू मौन रहता
Pratibha Kumari
तार वीणा का हृदय में
तार वीणा का हृदय में
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
"Hope is the spark that ignites the fire of possibility, and
Manisha Manjari
सुबह सुहानी आपकी, बने शाम रंगीन।
सुबह सुहानी आपकी, बने शाम रंगीन।
आर.एस. 'प्रीतम'
दुखी-संसार (कुंडलिया)
दुखी-संसार (कुंडलिया)
Ravi Prakash
अरदास
अरदास
Buddha Prakash
जाने क्यूँ उसको सोचकर -
जाने क्यूँ उसको सोचकर -"गुप्तरत्न" भावनाओं के समन्दर में एहसास जो दिल को छु जाएँ
गुप्तरत्न
शर्तो पे कोई रिश्ता
शर्तो पे कोई रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
सुबह वक्त पर नींद खुलती नहीं
सुबह वक्त पर नींद खुलती नहीं
शिव प्रताप लोधी
महंगाई का क्या करें?
महंगाई का क्या करें?
Shekhar Chandra Mitra
Loading...