Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Mar 2023 · 1 min read

2241.💥सबकुछ खतम 💥

2241.💥सबकुछ खतम 💥
साँसो का उखड़ जाना
अर्थात मौत।
औरत की जिंदगी में
दूसरी औरत का आना
अर्थात सौत।
दुनिया तबाह
सच में
लुट जाती है सारी चीज
एक के बाद एक खेदू
सबकुछ खतम ।
……..✍प्रो .खेदू भारती “सत्येश”
17-3-2023शुक्रवार

16 Views
You may also like:
"यादों के बस्तर"
Dr. Kishan tandon kranti
***
*** " बिंदु और परिधि....!!! " ***
VEDANTA PATEL
दोस्ती और कर्ण
दोस्ती और कर्ण
मनोज कर्ण
आदमी तनहा दिखाई दे
आदमी तनहा दिखाई दे
Dr. Sunita Singh
💐भगवान् तथा आनन्द:💐
💐भगवान् तथा आनन्द:💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
वजीर
वजीर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
शुभोदर छंद(नवाक्षरवृति वार्णिक छंद)
शुभोदर छंद(नवाक्षरवृति वार्णिक छंद)
Neelam Sharma
गीत
गीत
सूर्यकांत द्विवेदी
सबके मन मे राम हो
सबके मन मे राम हो
Kavita Chouhan
*फिर से करवाचौथ सुहानी मुस्कानें ले आई (गृहस्थ गीत)*
*फिर से करवाचौथ सुहानी मुस्कानें ले आई (गृहस्थ गीत)*
Ravi Prakash
जितना लफ़्ज़ों में
जितना लफ़्ज़ों में
Dr fauzia Naseem shad
नई दिल्ली
नई दिल्ली
Dr. Girish Chandra Agarwal
नशा इश्क़ का
नशा इश्क़ का
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अधूरी रात
अधूरी रात
डी. के. निवातिया
बार बार दिल तोड़ा तुमने , फिर भी है अपनाया हमने
बार बार दिल तोड़ा तुमने , फिर भी है अपनाया...
Dr Archana Gupta
गेसू सारे आबनूसी,
गेसू सारे आबनूसी,
Satish Srijan
■ डूब मरो...
■ डूब मरो...
*Author प्रणय प्रभात*
आज हमने सोचा
आज हमने सोचा
shabina. Naaz
तानाशाहों की मौत
तानाशाहों की मौत
Shekhar Chandra Mitra
अब आये हो तो वो बारिश भी साथ लाना, जी भरकर रो कर, जिससे है हमें उबर जाना।
अब आये हो तो वो बारिश भी साथ लाना, जी...
Manisha Manjari
Writing Challenge- भाग्य (Luck)
Writing Challenge- भाग्य (Luck)
Sahityapedia
बाँकी अछि हमर दूधक कर्ज / मातृभाषा दिवश पर हमर एक गाेट कविता
बाँकी अछि हमर दूधक कर्ज / मातृभाषा दिवश पर हमर...
Binit Thakur (विनीत ठाकुर)
कलम की ताकत
कलम की ताकत
Seema gupta,Alwar
समन्दर जैसे थे हम।
समन्दर जैसे थे हम।
Taj Mohammad
अब सुनता कौन है
अब सुनता कौन है
जगदीश लववंशी
मजदूरों वही हाल,, तो क्या नया साल,,
मजदूरों वही हाल,, तो क्या नया साल,,
मानक लाल"मनु"
बेटियाँ, कविता
बेटियाँ, कविता
Pakhi Jain
अभागीन ममता
अभागीन ममता
ओनिका सेतिया 'अनु '
कितना मुझे रुलाओगे ! बस करो
कितना मुझे रुलाओगे ! बस करो
D.k Math { ਧਨੇਸ਼ }
यह तो बाद में ही मालूम होगा
यह तो बाद में ही मालूम होगा
gurudeenverma198
Loading...