Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Mar 2023 · 1 min read

2236.

2236.
मैं नहीं बोलता ये कुर्सी बोलती है
212 212 212 2122
मैं नहीं बोलता ये कुर्सी बोलती है ।
बात दिल की यहाँ ये कुर्सी खोलती है ।।
साफ नीयत रखें अब कहाँ जिंदगी भर।
नासमझ देख ले ये कुर्सी डोलती है ।।
प्यार से जीत है हार है जानते सब ।
आज मधुरस कभी ये कुर्सी घोलती है ।।
साथ में कौन रहता कहीं यूं जमाना।
दाम क्या वजन क्या ये कुर्सी तोलती है ।।
हौसला है जहाँ मंजिलें पाँव खेदू।
चाह हो बस खुशी ये कुर्सी मोलती है ।।
…………✍प्रो .खेदू भारती”सत्येश”
10-3-2023शुक्रवार

72 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
" माँ "
Dr. Kishan tandon kranti
तेरी हस्ती, मेरा दुःख,
तेरी हस्ती, मेरा दुःख,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
न रोजी न रोटी, हैं जीने के लाले।
सत्य कुमार प्रेमी
बाल विवाह
बाल विवाह
Mamta Rani
मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम
मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम
Er.Navaneet R Shandily
धर्म और संस्कृति
धर्म और संस्कृति
Bodhisatva kastooriya
If you have  praising people around you it means you are lac
If you have praising people around you it means you are lac
Ankita Patel
मोर छत्तीसगढ़ महतारी हे
मोर छत्तीसगढ़ महतारी हे
Vijay kannauje
💐अज्ञात के प्रति-50💐
💐अज्ञात के प्रति-50💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुझको शिकायत है
मुझको शिकायत है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नन्हीं बाल-कविताएँ
नन्हीं बाल-कविताएँ
Kanchan Khanna
* घर में खाना घर के भीतर,रहना अच्छा लगता है 【हिंदी गजल/ गीत
* घर में खाना घर के भीतर,रहना अच्छा लगता है 【हिंदी गजल/ गीत
Ravi Prakash
तुम  में  और  हम  में
तुम में और हम में
shabina. Naaz
“यादों के झरोखे से”
“यादों के झरोखे से”
पंकज कुमार कर्ण
*रंग पंचमी*
*रंग पंचमी*
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की   कोशिश मत करना
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की कोशिश मत करना
Anand.sharma
उम्मीदों का उगता सूरज बादलों में मौन खड़ा है |
उम्मीदों का उगता सूरज बादलों में मौन खड़ा है |
कवि दीपक बवेजा
समाज के धक्कम धक्के में मेरी नासिका इतनी बलशाली हो गई है कि
समाज के धक्कम धक्के में मेरी नासिका इतनी बलशाली हो गई है कि
नव लेखिका
कहूं कैसे भोर है।
कहूं कैसे भोर है।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
"वक़्त के साथ सब बदलते हैं।
*Author प्रणय प्रभात*
चाल, चरित्र और चेहरा, सबको अपना अच्छा लगता है…
चाल, चरित्र और चेहरा, सबको अपना अच्छा लगता है…
Anand Kumar
कठपुतली की क्या औकात
कठपुतली की क्या औकात
Satish Srijan
शिखर ब्रह्म पर सबका हक है
शिखर ब्रह्म पर सबका हक है
मनोज कर्ण
अपनी कमी छुपाए कै,रहे पराया देख
अपनी कमी छुपाए कै,रहे पराया देख
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ਸਾਡੀ ਪ੍ਰੇਮ ਕਹਾਣੀ
ਸਾਡੀ ਪ੍ਰੇਮ ਕਹਾਣੀ
Surinder blackpen
बड़ा अखरता है मुझे कभी कभी
बड़ा अखरता है मुझे कभी कभी
ruby kumari
जिंदगी एक सफ़र अपनी 👪🧑‍🤝‍🧑👭
जिंदगी एक सफ़र अपनी 👪🧑‍🤝‍🧑👭
तारकेशवर प्रसाद तरुण
रंगमंच
रंगमंच
लक्ष्मी सिंह
- फुर्सत -
- फुर्सत -
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
निर्जन पथ का राही
निर्जन पथ का राही
नवीन जोशी 'नवल'
Loading...