Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2023 · 1 min read

2234.

2234.
💥जिंदगी का है आधार नारी💥
2122 22 2122
जिंदगी का है आधार नारी।
पार दरिया है पतवार नारी ।।
संघर्ष यहाँ साथी मंजिलों का ।
प्यार रब का है सुविचार नारी ।।
रौशनी से अंधेरा मिटे यूं ।
सच जुल्मों का है संहार नारी ।।
गम कभी भी ना आते यहाँ अब ।
रोज खुशियां है सरकार नारी ।।
खूबसूरत दुनिया आज खेदू।
गा तराना है उपहार नारी ।।
…………✍प्रो .खेदू भारती”सत्येश”
8-3-2023बुधवार
(विश्व महिला दिवस )

46 Views
You may also like:
औरत औकात
औरत औकात
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
" भुला दिया उस तस्वीर को "
Aarti sirsat
पढ़ो लिखो आगे बढ़ो पढ़ना जरूर ।
पढ़ो लिखो आगे बढ़ो पढ़ना जरूर ।
Rajesh vyas
कुछ तो याद होगा
कुछ तो याद होगा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*पर्वतों की इसलिए, महिमा बहुत भारी हुई (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*पर्वतों की इसलिए, महिमा बहुत भारी हुई (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
गीत शब्द
गीत शब्द
सूर्यकांत द्विवेदी
नन्हे बाल गोपाल के पाच्छे मैया यशोदा दौड़ लगाये.....
नन्हे बाल गोपाल के पाच्छे मैया यशोदा दौड़ लगाये.....
Ram Babu Mandal
"सुख के मानक"
Dr. Kishan tandon kranti
सचमुच सपेरा है
सचमुच सपेरा है
Dr. Sunita Singh
मैं आजादी तुमको दूंगा,
मैं आजादी तुमको दूंगा,
Satish Srijan
तिरंगे के तीन रंग , हैं हमारी शान
तिरंगे के तीन रंग , हैं हमारी शान
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पत्नी की प्रतिक्रिया
पत्नी की प्रतिक्रिया
नन्दलाल सिंह 'कांतिपति'
तपन ऐसी रखो
तपन ऐसी रखो
Ranjana Verma
लेख-भौतिकवाद, प्रकृतवाद और हमारी महत्वाकांक्षएँ
लेख-भौतिकवाद, प्रकृतवाद और हमारी महत्वाकांक्षएँ
Shyam Pandey
रोज मरते हैं
रोज मरते हैं
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
होठों पर मुस्कान,आँखों में नमी है।
होठों पर मुस्कान,आँखों में नमी है।
लक्ष्मी सिंह
मन की पीड़ा
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
Kathputali bana sansar
Kathputali bana sansar
Sakshi Tripathi
मैंने जला डाली आज वह सारी किताबें गुस्से में,
मैंने जला डाली आज वह सारी किताबें गुस्से में,
Vishal babu (vishu)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Fuzail Sardhanvi
विश्व तुम्हारे हाथों में,
विश्व तुम्हारे हाथों में,
कुंवर बहादुर सिंह
💐प्रेम कौतुक-310💐
💐प्रेम कौतुक-310💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कल तक थे वो पत्थर।
कल तक थे वो पत्थर।
Taj Mohammad
कितनी खास हो तुम
कितनी खास हो तुम
आकांक्षा राय
किसी भी इंसान के
किसी भी इंसान के
*Author प्रणय प्रभात*
बगावत की आग
बगावत की आग
Shekhar Chandra Mitra
नींद
नींद
Diwakar Mahto
ये मौन अगर.......! ! !
ये मौन अगर.......! ! !
Prakash Chandra
माँ
माँ
नन्दलाल सुथार "राही"
विचार मंच भाग - 6
विचार मंच भाग - 6
Rohit Kaushik
Loading...