Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2023 · 1 min read

💐अज्ञात के प्रति-23💐

23-
मैंने दिन में भी अन्धेरे को देखा है

-अभिषेक: पाराशरः ‘आनन्द’

Language: Hindi
92 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दर्दों ने घेरा।
दर्दों ने घेरा।
Taj Mohammad
जुल्मतों का दौर
जुल्मतों का दौर
Shekhar Chandra Mitra
फोन
फोन
Kanchan Khanna
मजदूर औ'र किसानों की बेबसी लिखेंगे।
मजदूर औ'र किसानों की बेबसी लिखेंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
ईच्छा का त्याग -  राजू गजभिये
ईच्छा का त्याग - राजू गजभिये
Raju Gajbhiye
सियासत में
सियासत में
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मन के गाँव
मन के गाँव
Anamika Singh
छुप जाता है चाँद, जैसे बादलों की ओट में l
छुप जाता है चाँद, जैसे बादलों की ओट में l
सेजल गोस्वामी
चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / MUSAFIR BAITHA
चुप्पी और गुस्से का वर्णभेद / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
खिलौने वो टूट गए, खेल सभी छूट गए,
खिलौने वो टूट गए, खेल सभी छूट गए,
Abhishek Shrivastava "Shivaji"
तलाश
तलाश
Dr. Rajeev Jain
आंसूओं की नमी का
आंसूओं की नमी का
Dr fauzia Naseem shad
माँ सच्ची संवेदना, माँ कोमल अहसास।
माँ सच्ची संवेदना, माँ कोमल अहसास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
काश
काश
shabina. Naaz
हिडनवर्ग प्रपंच
हिडनवर्ग प्रपंच
मनोज कर्ण
ए. और. ये , पंचमाक्षर , अनुस्वार / अनुनासिक , प्रयोग और उपयोग
ए. और. ये , पंचमाक्षर , अनुस्वार / अनुनासिक , प्रयोग और उपयोग
Subhash Singhai
 
  " परिवर्तन "
Dr Meenu Poonia
झर-झर बरसे नयन हमारे ज्यूँ झर-झर बदरा बरसे रे
झर-झर बरसे नयन हमारे ज्यूँ झर-झर बदरा बरसे रे
हरवंश हृदय
बारिश के लिए
बारिश के लिए
Srishty Bansal
2330.पूर्णिका
2330.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
■ संस्मरण / जो अब है बस यादों में 😍
■ संस्मरण / जो अब है बस यादों में 😍
*Author प्रणय प्रभात*
कौन कहता है की ,
कौन कहता है की ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
जीवन में जब संस्कारों का हो जाता है अंत
जीवन में जब संस्कारों का हो जाता है अंत
प्रेमदास वसु सुरेखा
अदरक वाला स्वाद
अदरक वाला स्वाद
दुष्यन्त 'बाबा'
जब वक़्त के साथ चलना सीखो,
जब वक़्त के साथ चलना सीखो,
Nanki Patre
!!!!!! नवरात्रि का त्यौहार !!!!!
!!!!!! नवरात्रि का त्यौहार !!!!!
जगदीश लववंशी
!! गुलशन के गुल !!
!! गुलशन के गुल !!
Chunnu Lal Gupta
कवि के उर में जब भाव भरे
कवि के उर में जब भाव भरे
लक्ष्मी सिंह
रखते हैं प्रभु ही सदा,जग में  सबका  ध्यान।
रखते हैं प्रभु ही सदा,जग में सबका ध्यान।
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
हवा
हवा
AMRESH KUMAR VERMA
Loading...