Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

2 जून की रोटी

आज 2 जून है।
मुझे तो
2 जून की रोटी ही
मिल जाय,
तो काफी है।
किसी को
इनसे ज्यादा चाहिए,
तो वैसे व्यक्ति
दूसरे की हकमारी करते हैं !

2 Likes · 163 Views
You may also like:
अंधेरी रातों से अपनी रौशनी पाई है।
Manisha Manjari
ये कैंसी अभिव्यक्ति है, ये कैसी आज़ादी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
✍️मेरी जान मुंबई है✍️
'अशांत' शेखर
अभागीन ममता
ओनिका सेतिया 'अनु '
अगनित उरग..
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
✍️कल के सुरज को ✍️
'अशांत' शेखर
जिन्दगी में होता करार है।
Taj Mohammad
जीवन
vikash Kumar Nidan
अनामिका के विचार
Anamika Singh
इन्तजार किया करतें हैं
शिव प्रताप लोधी
ॐ नीलकंठ शिव है वो
Swami Ganganiya
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
बेटियां।
Taj Mohammad
गमों के समंदर में।
Taj Mohammad
मत ज़हर हबा में घोल रे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
सुधार लूँगा।
Vijaykumar Gundal
आओ मिलके पेड़ लगाए !
Naveen Kumar
✍️Be Positive...!✍️
'अशांत' शेखर
यह सिर्फ़ वर्दी नहीं, मेरी वो दौलत है जो मैंने...
Lohit Tamta
.✍️आशियाना✍️
'अशांत' शेखर
कुछ यादें जीवन के
Anamika Singh
यशोधरा की व्यथा....
kalyanitiwari19978
✍️वो कौन है ✍️
Vaishnavi Gupta
ज्यादा रोशनी।
Taj Mohammad
'आप नहीं आएंगे अब पापा'
alkaagarwal.ag
कहानी *"ममता"* पार्ट-2 लेखक: राधाकिसन मूंधड़ा, सूरत।
radhakishan Mundhra
राजनीति ओछी है लोकतंत्र आहत हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
अब कैसे कहें तुमसे कहने को हमारे हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
*** तेरी पनाह.....!!! ***
VEDANTA PATEL
Loading...