Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

-1-

सन्नाटे
और
चुप्पियों के द्वार पर
मेरी छाती की धड़कनें
बच बच के चलती हैं

भाषायें चुक जाती हैं
स्मृतियों की काँव काँव पे

थकित
प्रेम का स्मारक

उदास ईश्वर
लम्हों की खोज में
असहिष्णुता के ताने बाने में ।।

531 Views
You may also like:
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
✍️कोई तो वजह दो ✍️
Vaishnavi Gupta
दामन भी अपना
Dr fauzia Naseem shad
श्रीमती का उलाहना
श्री रमण 'श्रीपद्'
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
आज अपना सुधार लो
Anamika Singh
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
पीला पड़ा लाल तरबूज़ / (गर्मी का गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता का प्रेम
Seema gupta ( bloger) Gupta
असफ़लताओं के गाँव में, कोशिशों का कारवां सफ़ल होता है।
Manisha Manjari
पिता
लक्ष्मी सिंह
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta
✍️प्यारी बिटिया ✍️
Vaishnavi Gupta
बे'बसी हमको चुप करा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रिश्तों की डोर
मनोज कर्ण
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
बिटिया होती है कोहिनूर
Anamika Singh
मन
शेख़ जाफ़र खान
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
Loading...