ज़िन्दगी

दीवारों के पीछे से
बंद दरवाज़ों के बीच
हल्की सी जगह से झांकती
ज़िंदगी

मुझसे पूछती है आज
क्यों हूँ मैं बंद यहाँ
इस अँधेरे कमरे में
क्यों खुद को छुपा रखा है
ज़माने की धूप से

बेखबर
क्यों हूँ मैं कि
मुझे ना है कोई फ़िक्र
अपनी और अपनों की
क्यों हूँ अनजान दर्द से खुद के
की चला जा रहा हूँ
बिखरे कांच के टुकड़ों पर

खुश नहीं हूँ
पर ख़ुशी के रास्तों को भी नहीं जानता
ग़म को मिटने का
कोई रास्ता क्यों नहीं निकालता

रोशनी
ज़रूरी है कि मैं कुछ देख पाऊँ
खुद से बाहर निकलूँ और
फ़िज़ा महसूस कर पाऊँ
फिर निकल आये पर मेरे
इस खुले आसमान में उड़ता
आज़ाद पंछी बन जाऊं
लौट जाऊं बचपन में
इस उम्र की ज़ंजीरें तोड़
अब लगता है मन में कहीं
कि बचपन में ही खुद को छोड़ आऊं

–प्रतीक

1 Like · 190 Views
You may also like:
【3】 ¡*¡ दिल टूटा आवाज हुई ना ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
*ओ भोलेनाथ जी* "अरदास"
Shashi kala vyas
मुक्तक(मंच)
Dr Archana Gupta
All I want to say is good bye...
Abhineet Mittal
प्रेम
Vikas Sharma'Shivaaya'
आसान नहीं होता है पिता बन पाना
Poetry By Satendra
वैवाहिक वर्षगांठ मुक्तक
अभिनव मिश्र अदम्य
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
उपज खोती खेती
विनोद सिल्ला
【31】{~} बच्चों का वरदान निंदिया {~}
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
जिंदगी का मशवरा
Krishan Singh
जी, वो पिता है
सूर्यकांत द्विवेदी
जाने कैसी कैद
Saraswati Bajpai
Little baby !
Buddha Prakash
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
The Buddha And His Path
Buddha Prakash
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
*!* मेरे Idle मुन्शी प्रेमचंद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
Jyoti Khari
ज़ुबान से फिर गया नज़र के सामने
कुमार अविनाश केसर
सच समझ बैठी दिल्लगी को यहाँ।
ananya rai parashar
फरिश्तों सा कमाल है।
Taj Mohammad
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
निगाह-ए-यास कि तन्हाइयाँ लिए चलिए
शिवांश सिंघानिया
सेक्लुरिजम का पाठ
Anamika Singh
💐💐प्रेम की राह पर-15💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ज़माने की नज़र से।
Taj Mohammad
मजदूर की अंतर्व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
शायद मुझसा चोर नहीं मिल सकेगा
gurudeenverma198
पापा को मैं पास में पाऊँ
Dr. Pratibha Mahi
Loading...