Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
May 19, 2016 · 1 min read

ग़ज़ल

ए मुहब्बत ज़रा करम कर दे,
इश्क़ को मेरे मोहतरम कर दे।

कर अता वस्ल के हसीं लम्हे,
दूर फ़ुर्क़त का दिल से गम कर दे।

दिल की बंज़र ज़मीन सूखी है,
प्यार की बारिशों से नम कर दे।

सच ही बोलेगी ये ज़ुबाँ मेरी,
चाहे मेरी ज़ुबाँ क़लम कर दे।

दास्ताँ अपने इश्क़ की जानाँ
दिल के किरतास पे रक़म कर दे।

जब सताए फरेब दुनिया के,
आयते इश्क़ पढ़ के दम कर दे।

दीपशिखा सागर-

195 Views
You may also like:
बंशी बजाये मोहना
लक्ष्मी सिंह
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
क्या लगा आपको आप छोड़कर जाओगे,
Vaishnavi Gupta
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
पिता
Shailendra Aseem
पिता
Mamta Rani
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आंसूओं की नमी का क्या करते
Dr fauzia Naseem shad
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गुरुजी!
Vishnu Prasad 'panchotiya'
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
तीन किताबें
Buddha Prakash
गरीबी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
जीवन के उस पार मिलेंगे
Shivkumar Bilagrami
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
पिता
Deepali Kalra
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
दया करो भगवान
Buddha Prakash
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
Loading...