Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

मुहब्बत बा जरूरी

मुहब्बत बा जरूरी
■■■■■■■■
जिये खातिर ई सूरत बा जरूरी
न दिल तूरऽ मुहब्बत बा जरूरी

हवे ई राह सचहूँ काँट जइसन
मगर ये प्यार के लत बा जरूरी

न लामें जा सनम अब रूठ के तू
सुनऽ जिनिगी में जन्नत बा जरूरी

बिछड़ला के मिले कारन हजारों
मिले खातिर तऽ किस्मत बा जरूरी

परख खातिर के बाटे खास आपन
घड़ी भर के मुसीबत बा जरूरी

करे मन आज देखीं खूब तहके
तनी दे दऽ इजाजत बा जरूरी

रही तड़पन मिली हमके मुहब्बत
मगर ‘आकाश’ शिद्दत बा जरूरी

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- १०/०७/२०२१

2 Likes · 1 Comment · 173 Views
You may also like:
नदी की अभिलाषा / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Aruna Dogra Sharma
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
आजादी अभी नहीं पूरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️इंतज़ार✍️
Vaishnavi Gupta
कोई मरहम
Dr fauzia Naseem shad
समय का सदुपयोग
Anamika Singh
बेटियों तुम्हें करना होगा प्रश्न
rkchaudhary2012
आंखों में कोई
Dr fauzia Naseem shad
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta
जब गुलशन ही नहीं है तो गुलाब किस काम का...
लवकुश यादव "अज़ल"
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
"अष्टांग योग"
पंकज कुमार कर्ण
✍️अकेले रह गये ✍️
Vaishnavi Gupta
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
सिर्फ तुम
Seema 'Tu hai na'
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
मेरे पिता
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
"निर्झर"
Ajit Kumar "Karn"
अपने दिल को ही
Dr fauzia Naseem shad
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
आदर्श पिता
Sahil
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Loading...