Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

बेकार बाटे सादगी

बेकार बाटे सादगी
■■■■■■■■
ना लहर बा आशिकी के ना बचल कवनो खुशी
का कहीं अब हाल आपन खो गइल बा जिंदगी

जे मिले दिलवे दुखावे चोट खाईं रोज हम
अब समझ में आ गइल बेकार बाटे सादगी

हर तरफ बा स्वार्थ के आइल अमावस देखि लऽ
ये अमावस से मगर खोजे के बाटे चाँदनी

बा जहर से भरि गइल भाई इहाँ वातावरन
ये शहर में मिल न पाई गाँव के ऊ ताजगी

कारखाना तू लगावऽ शौक से बाकिर सुनऽ
गंदगी से भरि गइल बा देश के सगरो नदी

का निराशा के भंँवर में डूब के सोचेलऽ तू
जे लगन से लागि जाला खोजि लेला रोशनी

झुंड में ‘आकाश’ चींटी आ चले बकुला मगर
आजकल देखल न चाहे आदमी के आदमी

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 17/07/2021

243 Views
You may also like:
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
हैं पिता, जिनकी धरा पर, पुत्र वह, धनवान जग में।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
"रक्षाबंधन पर्व"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
झूला सजा दो
Buddha Prakash
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
ऐ मातृभूमि ! तुम्हें शत-शत नमन
Anamika Singh
पल
sangeeta beniwal
मेरा गांव
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
मन
शेख़ जाफ़र खान
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
कौन दिल का
Dr fauzia Naseem shad
फेसबुक की दुनिया
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता
Mamta Rani
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
रावण - विभीषण संवाद (मेरी कल्पना)
Anamika Singh
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
ये शिक्षामित्र है भाई कि इसमें जान थोड़ी है
आकाश महेशपुरी
क्यों हो गए हम बड़े
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
जय जय भारत देश महान......
Buddha Prakash
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
छोड़ दी हमने वह आदते
Gouri tiwari
【34】*!!* आग दबाये मत रखिये *!!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Loading...