हे गंगा माई हमके आशीर्वाद द

हे गंगा माई
हमके आशीर्वाद द
निमन विचार द
शब्दन के भंडार द
पाप के आगे हम कबो झुकी न
कलम के रूप में हथियार द
तोहार कलकल जल बहत रहे
सदा निर्मल रहलबा सदा निर्मल रहे
पुरा देशवासी एक साथे तोहार जल
अइसहने पीयत रहे
माई हउ बेटा निहोरा करता
हमार शब्दन के पुजा स्वीकार ल
हे गंगा माई हमके आशीर्वाद द

124 Views
You may also like:
अख़बार
आकाश महेशपुरी
ग़ज़ल
kamal purohit
लहजा
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग३]
Anamika Singh
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
सबकुछ बदल गया है।
Taj Mohammad
ना कर गुरुर जिंदगी पर इतना भी
VINOD KUMAR CHAUHAN
पिता एक सूरज
डॉ. शिव लहरी
*•* रचा है जो परमेश्वर तुझको *•*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
श्रम पिता का समाया
शेख़ जाफ़र खान
बंद हैं भारत में विद्यालय.
Pt. Brajesh Kumar Nayak
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
-:फूल:-
VINOD KUMAR CHAUHAN
رہنما مل گیا
अरशद रसूल /Arshad Rasool
पिता
Rajiv Vishal
पिता
Saraswati Bajpai
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
जंगल में एक बंदर आया
VINOD KUMAR CHAUHAN
श्री राम ने
Vishnu Prasad 'panchotiya'
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पितृ वंदना
संजीव शुक्ल 'सचिन'
यादों से दिल बहलाना हुआ
N.ksahu0007@writer
💐प्रेम की राह पर-29💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
अथक प्रयत्न
Dr.sima
तुम्हारी चाय की प्याली / लवकुश यादव "अज़ल"
लवकुश यादव "अज़ल"
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
बे-पर्दे का हुस्न।
Taj Mohammad
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
The Sacrifice of Ravana
Abhineet Mittal
Loading...