Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

सावन के दोहा

सावन में हरिहर भइल, सगरो खेत बघार।
सखियन के झूला पड़ल, खुश बा गाँव जवार।।

सावन मनभावन भइल, हरिहर भइल जहान।
झूला बगियन में पड़ल, विखरल कजरी गान।।

सावन बिन साजन कहाँ, शीतल कहाँ फुहार।
भकसावन लागत हवे, घरवा अउर दुआर।।

कलि कलि मुसुकाति हऽ, उपवन महकत आज।
जहिया से भइलो सखी, सावन के आगाज।।

रिमझिम बरसे बूनिआ, शीतल मंद समीर।
साजन बिन देखऽ सखी, धइल न जाला धीर।।

सावन बीतल जात बा, बरसत नैनन नीर।
साजन ना अइलन सखी, मनवा भइल अधीर।।

सावन शिव के माह हऽ, चलिहऽ बाबाधाम।
दुख सगरो पल में मिटल, जे लिहलन शिव नाम।।

(स्वरचित मौलिक)
#सन्तोष_कुमार_विश्वकर्मा_सूर्य
तुर्कपट्टी, देवरिया, (उ.प्र.)
☎️7379598464

181 Views
You may also like:
राष्ट्रवाद का रंग
मनोज कर्ण
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
ठोकर खाया हूँ
Anamika Singh
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
कण-कण तेरे रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
दिल से रिश्ते निभाये जाते हैं
Dr fauzia Naseem shad
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
ज़िंदगी से सवाल
Dr fauzia Naseem shad
बाबू जी
Anoop Sonsi
गीत
शेख़ जाफ़र खान
Nurse An Angel
Buddha Prakash
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
पिता
Ram Krishan Rastogi
अनमोल जीवन
आकाश महेशपुरी
सफ़र में रहता हूं
Shivkumar Bilagrami
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
हायकु मुक्तक-पिता
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
पल
sangeeta beniwal
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
समय को भी तलाश है ।
Abhishek Pandey Abhi
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
दो पल मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
Loading...