Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

साँची कहे तोरे आवन से आर्यन

साँची कहे तोरे आवन से आर्यन
जेलवा मा छाये बहार बबुवा

ठण्डी परी करेजवा मा सभके
जियरा को आये करार बबुवा

•••

1 Like · 131 Views
You may also like:
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
पिता
Shankar J aanjna
ऐ ज़िन्दगी तुझे
Dr fauzia Naseem shad
कोई हमदर्द हो गरीबी का
Dr fauzia Naseem shad
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
जिन्दगी का सफर
Anamika Singh
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अधुरा सपना
Anamika Singh
बदल जायेगा
शेख़ जाफ़र खान
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
कभी-कभी / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
वर्षा ऋतु में प्रेमिका की वेदना
Ram Krishan Rastogi
"आम की महिमा"
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
'परिवर्तन'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
बरसाती कुण्डलिया नवमी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
✍️जीने का सहारा ✍️
Vaishnavi Gupta
मर गये ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
जैसे सांसों में ज़िंदगी ही नहीं
Dr fauzia Naseem shad
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
उतरते जेठ की तपन / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
Loading...