Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

सपना बुझाला जहान

रसे रसे रोवे परान
ये भइया, सपना बुझाला जहान

होला जनम तब बाजेला बधइया
बाबूजी सनेह आ प्यार देली मइया
पढ़ेला लोग फेरू पावेला नोकरी
देश आ विदेश, गाँव घूमेला सगरी
होला बिआह फेरू होखेला गवना
बचपन, जवानी भइल जाला सपना
बचे ना कवनो निशान-
ये भइया, सपना बुझाला जहान

केहू ना जाने कि आगे का होई
सुख मिली केकरा आ के बस रोई
कइसे ऊ कटी बुढ़ौती के रतिया
पार लागी जिनिगी कि होई दुरगतिया
बेटा आ बेटी लो जानी ना जानी
का जाने पूछी कि ना केहू पानी
का जाने कइसन विधान-
ये भइया, सपना बुझाला जहान

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 15/02/2006

291 Views
You may also like:
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
कोई मंझधार में पड़ा हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
आया रक्षाबंधन का त्योहार
Anamika Singh
इंतज़ार थमा
Dr fauzia Naseem shad
जब गुलशन ही नहीं है तो गुलाब किस काम का...
लवकुश यादव "अज़ल"
क्यों हो गए हम बड़े
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
संत की महिमा
Buddha Prakash
पिता का दर्द
Nitu Sah
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
सफ़र में रहता हूं
Shivkumar Bilagrami
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
हम सब एक है।
Anamika Singh
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
रफ्तार
Anamika Singh
बरसात आई झूम के...
Buddha Prakash
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
✍️ईश्वर का साथ ✍️
Vaishnavi Gupta
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
Green Trees
Buddha Prakash
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
पिता की छांव
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
!¡! बेखबर इंसान !¡!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
पाँव में छाले पड़े हैं....
डॉ.सीमा अग्रवाल
हम भूल तो नहीं सकते
Dr fauzia Naseem shad
Loading...