Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

रोपनी गीत

आयोजन-लोकगीत

मानीं कहलका, मकई दीं बोई।
रोपनियाँ ए सइयाँ, हमसे ना होई।

मरिचा नियन लागे बरखा के घाम हो।
बरखा के घाम पिया, बरखा के घाम हो——
लागता जर जाई देहिंया के चाम हो।
देहिंया के चाम पिया, देहिंया के चाम हो——
मठवा पीरा टा टे, देखऽ रोई-रोई।
रोपनायां——–

भादो में झमझम बरसे ला पानी।
बरसे ला पानी पिया, बरसे ला पानी—-
कोठा से निक पिया आपन पलानी।
आपन पलानी हो आपन पलानी—–
खतिया टूरल जाई, दुनू जाना सोई।
रोपनियाँ ए सइयाँ, हमसे ना होई।

(स्वरचित मौलिक)
#सन्तोष_कुमार_विश्वकर्मा_सूर्य’
तुर्कपट्टी, देवरिया, (उ.प्र.)
☎️7379598464

124 Views
You may also like:
पिता
Buddha Prakash
एक दुआ हो
Dr fauzia Naseem shad
ख़्वाब सारे तो
Dr fauzia Naseem shad
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
अबके सावन लौट आओ
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
बुध्द गीत
Buddha Prakash
मिट्टी की कीमत
निकेश कुमार ठाकुर
पिता
Deepali Kalra
✍️आशिकों के मेले है ✍️
Vaishnavi Gupta
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
पापा करते हो प्यार इतना ।
Buddha Prakash
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
क्या ज़रूरत थी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आह! भूख और गरीबी
Dr fauzia Naseem shad
मोहब्बत की दर्द- ए- दास्ताँ
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
हम तुमसे जब मिल नहीं पाते
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आइना हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
अरदास
Buddha Prakash
आस
लक्ष्मी सिंह
गरीबी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...