Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

रहे इहाँ जब छोटकी रेल

देखल जा खूब ठेलम ठेल
रहे इहाँ जब छोटकी रेल

चढ़े लोग जत्था के जत्था
छूटे सगरी देहि के बत्था
चेन पुलिग के रहे जमाना
रुके ट्रेन तब कहाँ कहाँ ना
डब्बा डब्बा लोगवा धावे
टिकट कहाँ केहू कटवावे
कटवावे उ होई महाने
बाकी सब के रामे जाने
जँगला से सइकिल लटका के
बइठे लोग छते पर जा के
अरे बाप रे देखनी लीला
चढ़ऽल रहे उ ले के पीला
छतवे पर कुछ लोग पटा के
चलत रहे केहू अङ्हुआ के
छतवे पर के उ चढ़वैइया
साइत बारे के पढ़वइया
दउरे डब्बा से डब्बा पर
ना लागे ओके तनिको डर
बनऽल रहे लइकन के खेल
रहे इहाँ जब छोटकी रेल

भितरो तनिक रहे ना सासत
केहू छींके केहू खासत
भीड़-भाड़ से भाई सबके
दर्द करे सीना ले दब के
ऊपर से जूता लटका के
बरचा पर बइठे लो जाके
जूता के बदबू से भाई
जात रहऽल सभे अगुताई
घूमें कवनो फेरी वाला
खुलाहा मुँह रहे ना ताला
पान खाइ गाड़ी में थूकल
कहाँ भुलाता बीड़ी धूकल
दारूबाजन के हंगामा
पूर्णविराम ना रहे कामा
पंखा बन्द रहे आ टूटल
शौचालय के पानी रूठल
कोशिश कऽ लऽ यादे आई
दिन बीतऽल उ कहाँ भुलाई
ना पास रहे ना रहे फेल
रहे इहाँ जब छोटकी रेल

असली होखे भीड़ भड़ाका
इस्टेशन जब रूके चाका
कदम कदम पर रेलम रेला
लागे जइसे लागल मेला
उतरे केहू जोर लगा के
अउर चढ़े केहू धकिया के
जोर लगा के सभे ठेले
दमदारे बस आगे हेले
जेकरा में ना रहे बूता
सरके ऊ तऽ सूता सूता
ले के मउगी पेटी बोरा
लइका एगो लेके कोरा
बाँहीं में लटका के झोरा
उतरे खातिर करे निहोरा
पीछे से पवलें जब धाका
टूटल टँगरी गिरलें काका
अइसन अइसन बहुत कहानी
चोरवऽनों के रहे चानी
संजोगे से होखे जेल
रहे इहाँ जब छोटकी रेल

– आकाश महेशपुरी

6 Likes · 6 Comments · 1083 Views
You may also like:
किसकी पीर सुने ? (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
#पूज्य पिता जी
आर.एस. 'प्रीतम'
बुध्द गीत
Buddha Prakash
Security Guard
Buddha Prakash
खुद से बच कर
Dr fauzia Naseem shad
✍️फिर बच्चे बन जाते ✍️
Vaishnavi Gupta
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता, पिता बने आकाश
indu parashar
पिता
Meenakshi Nagar
छीन लेता है साथ अपनो का
Dr fauzia Naseem shad
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
ये दिल मेरा था, अब उनका हो गया
Ram Krishan Rastogi
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
मौन में गूंजते शब्द
Manisha Manjari
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
कुछ नहीं इंसान को
Dr fauzia Naseem shad
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
किरदार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"हैप्पी बर्थडे हिन्दी"
पंकज कुमार कर्ण
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
विन मानवीय मूल्यों के जीवन का क्या अर्थ है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
अपना ख़्याल
Dr fauzia Naseem shad
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
Loading...