Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
May 19, 2016 · 1 min read

मुक्तक

मान सम्मान से नही डरता,
खतरा ए जान से नही डरता।
तैर के दरिया पार करता है,
इश्क़ तूफ़ान से नही डरता।

दीपशिखा-

221 Views
You may also like:
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उसे देख खिल जातीं कलियांँ
श्री रमण 'श्रीपद्'
कर्म का मर्म
Pooja Singh
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
जब बेटा पिता पे सवाल उठाता हैं
Nitu Sah
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
बेटियों तुम्हें करना होगा प्रश्न
rkchaudhary2012
फ़ायदा कुछ नहीं वज़ाहत का ।
Dr fauzia Naseem shad
🙏माॅं सिद्धिदात्री🙏
पंकज कुमार कर्ण
ख़्वाब पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
टूटा हुआ दिल
Anamika Singh
"कुछ तुम बदलो कुछ हम बदलें"
Ajit Kumar "Karn"
ये कैसा धर्मयुद्ध है केशव (युधिष्ठर संताप )
VINOD KUMAR CHAUHAN
मर गये ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
पितृ ऋण
Shyam Sundar Subramanian
इंतज़ार थमा
Dr fauzia Naseem shad
दोहा छंद- पिता
रेखा कापसे
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दया करो भगवान
Buddha Prakash
गरम हुई तासीर दही की / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
पिता
विजय कुमार 'विजय'
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
सृजन कर्ता है पिता।
Taj Mohammad
बरसात
मनोज कर्ण
Loading...