मिथिला

हे विदेह वंशुधारा हे माता,
हे अंग वंशुधारा हे माता ,
हे बज्जि वशुधारा हे माता,
हे जगत जननी हे भाग्य विधाता ,
हे कुलदेवी वन देवी विद्या-देवी हे माता,
हे शायमा देवी पटन देवी उग्रतारा धीमेश्वर
खलारी जानकी हे माता,
नित कट कट अर्हणा गंगा कमला कोशीक हे अनुपम धारा ,
हे भुवन संस्कार संस्कृतिक आचार सदा बान्हु,
लहू अर्पित तोहे ,लख लख परिपन्थी काटू तरूआर तेज आरा ,
हे मातृभूमि पवृित गौरवशाली रंग अहिने पग पग लागै

कविता क कुछ अंश

मौलिक एवं स्वरचित
© श्रीहर्ष आचार्य

121 Views
You may also like:
याद आते हैं।
Taj Mohammad
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
पिता
Shailendra Aseem
"ईद"
Lohit Tamta
मजदूरों की दुर्दशा
Anamika Singh
🔥😊 तेरे प्यार ने
N.ksahu0007@writer
Motivation ! Motivation ! Motivation !
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Little sister
Buddha Prakash
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
एक शख्स ही ऐसा होता है
Krishan Singh
सिया
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कुछ ख़ास करते है।
Taj Mohammad
हम गीत ख़ुशी के गाएंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
इतना शौक मत रखो इन इश्क़ की गलियों से
Krishan Singh
अम्मा/मम्मा
Manu Vashistha
बाबा साहेब जन्मोत्सव
Mahender Singh Hans
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग१]
Anamika Singh
पप्पू और पॉलिथीन
मनोज कर्ण
अंदाज़।
Taj Mohammad
*मृदुभाषी श्री ऊदल सिंह जी : शत-शत नमन*
Ravi Prakash
बेबसी
Varsha Chaurasiya
बुलबुला
मनोज शर्मा
उनकी आमद हुई।
Taj Mohammad
मैं आज की बेटी हूं।
Taj Mohammad
मेरे हर सिम्त जो ग़म....
अश्क चिरैयाकोटी
आज असंवेदनाओं का संसार देखा।
Manisha Manjari
हमें अब राम के पदचिन्ह पर चलकर दिखाना है
Dr Archana Gupta
ईश प्रार्थना
Saraswati Bajpai
प्रीति की, संभावना में, जल रही, वह आग हूँ मैं||
संजीव शुक्ल 'सचिन'
*!* अपनी यारी बेमिसाल *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Loading...