Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

बाबा विश्वकर्मा

बाबा विश्वकर्मा जी के, नमन करत बानी,
देव शिल्पी नमवा से, जाने ला जहनवा।

परबत नदी नाला, झरना करेला हाला,
उहे सिरजवनीं हँ, धरती गगनवा।

महल अटारी सब, चमकत गाड़ी सब,
उहे नू बनावतानी, कल करखनवा।

धर्म पुत्र ब्रह्मा जी के, शिल्प में निपुण हईं,
सत्रह सितंबर के, होखेला पुजनवा।

(स्वरचित मौलिक)
#सन्तोष_कुमार_विश्वकर्मा_सूर्य
तुर्कपट्टी, देवरिया, (उ.प्र.)
☎️7379598464

242 Views
You may also like:
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
सोलह शृंगार
श्री रमण 'श्रीपद्'
हर घर तिरंगा
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आ ख़्वाब बन के आजा
Dr fauzia Naseem shad
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
काश....! तू मौन ही रहता....
Dr. Pratibha Mahi
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पितु संग बचपन
मनोज कर्ण
मन की पीड़ा
Dr fauzia Naseem shad
टूटा हुआ दिल
Anamika Singh
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
बेटियों तुम्हें करना होगा प्रश्न
rkchaudhary2012
छोड़ दो बांटना
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
नित नए संघर्ष करो (मजदूर दिवस)
श्री रमण 'श्रीपद्'
ख़्वाहिश पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
"सूखा गुलाब का फूल"
Ajit Kumar "Karn"
जो आया है इस जग में वह जाएगा।
Anamika Singh
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
कहीं पे तो होगा नियंत्रण !
Ajit Kumar "Karn"
गंगा दशहरा
श्री रमण 'श्रीपद्'
" एक हद के बाद"
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
ख़्वाब आंखों के
Dr fauzia Naseem shad
Loading...