Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

प्यार कालू त हमसे निभा जा सनम

मुक्तक
मापनी- २१२ २१२ २१२ २१२

प्यार कइलू त हमसे निभा जा सनम।
छोडि दऽ साथ हमरो भुला जा सनम।
ख्वाब में नाहि आइब इ वादा रहल-
मौत के नींद हमके सुला जा सनम।

साथ जिनगी बिताइब इरादा रहल।
हाय! मनवा में उनकी का दादा रहल।
लूटि के चैन हमरो रहें चैन से-
राह रोकब न कबहूँ इ वादा रहल।

आदमी आदमी के कहाँ खास बा।
बस खुदा की रहम पर चलत साँस बा।
काम सगरो बनावत बिगाड़त उहे-
राम के आस बा और विश्वास बा।

जख्म बा जिंदगी तऽ दवा जिंदगी।
धूप बा जिंदगी तऽ हवा जिंदगी।
दूर जे भी रहल लोभ से द्वेष से-
हर घड़ी आज उनकर नवा जिंदगी।

(स्वरचित मौलिक)
#सन्तोष_कुमार_विश्वकर्मा_सूर्य
तुर्कपट्टी, देवरिया, (उ.प्र.)
☎️7379598464

297 Views
You may also like:
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
सपनों में खोए अपने
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
नए-नए हैं गाँधी / (श्रद्धांजलि नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
विचार
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
✍️यूँही मैं क्यूँ हारता नहीं✍️
'अशांत' शेखर
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
पिता की नसीहत
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
माँ, हर बचपन का भगवान
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सत्यमंथन
मनोज कर्ण
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
तप रहे हैं प्राण भी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
" मैं हूँ ममता "
मनोज कर्ण
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
आई राखी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
'दुष्टों का नाश करें' (ओज - रस)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पहचान...
मनोज कर्ण
झरने और कवि का वार्तालाप
Ram Krishan Rastogi
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
दर्द अपना है तो
Dr fauzia Naseem shad
हमनें ख़्वाबों को देखना छोड़ा
Dr fauzia Naseem shad
तू तो नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
# पिता ...
Chinta netam " मन "
तुमसे कोई शिकायत नही
Ram Krishan Rastogi
मां की ममता
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
झुलसता पर्यावरण / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
Loading...