Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings
May 26, 2016 · 1 min read

न प्यार का अब समझते मतलब

न प्यार का अब समझते मतलब न भावनाओं को देखते हैं
तभी तो रिश्तों में आज इतनी पड़ी दरारों को देखते हैं

यूँ हार कर भी हमारे दिल में न जीत की आग बुझ
सकी है
दबे हुये है जो राख में हम उन्हीं शरारों को देखते हैं

बुरे समय में वो टूट कर के निराश होते न ज़िन्दगी से
जो पतझरों मे भी ढूंढ कर के यहाँ बहारों को देखते हैं

दिमाग से सोचते नहीं हैं चले ही जाते हैं पीछे पीछे
जहाँ में ये भेड़ चाल चलते यहाँ करोङों को देखते हैं

ये अर्चना ज़िन्दगी समन्दर न डूबते हैं न हम उबरते
कभी सिमटते कभी बिखरते यहाँ किनारों को देखते हैं

डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद (उ प्र)

498 Views
You may also like:
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
मांँ की लालटेन
श्री रमण 'श्रीपद्'
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
*!* दिल तो बच्चा है जी *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
प्यार
Anamika Singh
दूल्हे अब बिकते हैं (एक व्यंग्य)
Ram Krishan Rastogi
पापा आपकी बहुत याद आती है !
Kuldeep mishra (KD)
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
मत रो ऐ दिल
Anamika Singh
एक कतरा मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
एसजेवीएन - बढ़ते कदम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
इश्क
Anamika Singh
पिता
Dr. Kishan Karigar
पितृ वंदना
मनोज कर्ण
✍️कैसे मान लुँ ✍️
Vaishnavi Gupta
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
✍️बुरी हु मैं ✍️
Vaishnavi Gupta
पहचान...
मनोज कर्ण
यादें
kausikigupta315
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
वो हैं , छिपे हुए...
मनोज कर्ण
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
Loading...