Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

ना सियरा तरकुल तर जाई

सुनीं सुनाईं एक कहानी,
पांच साल के ई परधानी।
एतने दिन के बन के राजा,
खाके भइलें मोटा ताजा।

पांच साल के बा परधानी,
आई बुढ़ापा जाई जवानी।
एतना मत सबके दबियावअ,
बात बात मे मत गरीयावअ।

कुछ दिन अउर मलाई काटअ,
मत सबका के अईसे डाँटअ।
ई दिन फिर कबो ना आई,
ना सियरा तरकुल तर जाई।

केतनो करबअ सबसे विनती,
पार न होई सौ के गिनती।
याद करी सब लोगवा गारी,
सबसे कईलअ मारामारी,

राजा बन खुब चरलअ खेत,
शरम न आईल पईसा लेत।
विधवा से लेई दुई हजार,
देहलअ पेंशन के उपहार।

बिना कमाई बिल्डिंग चमके,
सेंट इतर से देहिया गमके।
जनता सोचे कहाँ से आईल,
एतना जल्दी झलकल टाइल।

ना पेशा ना कवनो नोकरी,
ना ढोवेलअ कवनो टोकरी।
गाड़ी घोड़ा कहाँ से भईल,
पईसा नाली के कहवाँ गईल।

छुअले बा ना खुरपी कबो,
मनरेगा में आगे अबो।
केतने नवकी मउगीन के खाता,
भरलअ रहअता पईसा जाता।

मन ही मन सब लोग विचारे,
तहरी करनी खूब बघारे।
पांच साल अब कईसो कटे,
इ परधानी जल्दी हटे।

अबकी बार ना होई धोखा,
ना पईसा ना लिट्टी चोखा।
मुखिया चुनल जाई अइसन,
“जटा” मान ल सेवक जइसन।

✍️जटाशंकर”जटा”
०९-०२-२०२१
ग्राम-सोन्दिया बुजुर्ग
पोस्ट-किशुनदेवपुर
जनपद-कुशीनगर
उत्तर प्रदेश
मो०नं० ९७९२४६६२२३

2 Likes · 3 Comments · 518 Views
You may also like:
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"खुद की तलाश"
Ajit Kumar "Karn"
सब अपने नसीबों का
Dr fauzia Naseem shad
बिछड़ कर किसने
Dr fauzia Naseem shad
मुझको कबतक रोकोगे
Abhishek Pandey Abhi
“श्री चरणों में तेरे नमन, हे पिता स्वीकार हो”
Kumar Akhilesh
सही-ग़लत का
Dr fauzia Naseem shad
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
सिर्फ तुम
Seema 'Tu hai na'
मृगतृष्णा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
अरदास
Buddha Prakash
टोकरी में छोकरी / (समकालीन गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
विश्व फादर्स डे पर शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरी लेखनी
Anamika Singh
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जितनी मीठी ज़ुबान रक्खेंगे
Dr fauzia Naseem shad
हम सब एक है।
Anamika Singh
गिरधर तुम आओ
शेख़ जाफ़र खान
मेरी उम्मीद
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता के चरणों को नमन ।
Buddha Prakash
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Manisha Manjari
परिवाद झगड़े
ईश्वर दयाल गोस्वामी
शरद ऋतु ( प्रकृति चित्रण)
Vishnu Prasad 'panchotiya'
पिता के रिश्ते में फर्क होता है।
Taj Mohammad
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...