Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

दुख होला झगरा कइला से

जब छोटी-मोटी बातिन पर कवनो घर में तकरार रही
आगे ना बढ़ी कबो हरदम झगरे में ऊ परिवार रही

हटि जाई रोज लड़ाई से
लइकन के ध्यान पढ़ाई से
ई लाइलाज बीमारी हऽ
जाई ना कबो दवाई से
नफरत के भाव रही भीतर ऊ मन कइसे उजियार रही
आगे ना बढ़ी कबो हरदम झगरे में ऊ परिवार रही

नजदीके चाहे फइला से
दुख होला झगरा कइला से
घरवा में कलह मचेला जब
ना खून बनेला खइला से
जवने घरवा के मनइन के मूँहे में बस अंगार रही
आगे ना बढ़ी कबो हरदम झगरे में ऊ परिवार रही

सनमत के भरबऽ प्याली ना
घर में आई खुशहाली ना
जोरन सनेह के ना डलबऽ
सुख के तू पइबऽ छाली ना
जहवाँ इक दूजा के मन में ना प्रेम भरल रसधार रही
आगे ना बढ़ी कबो हरदम झगरे में ऊ परिवार रही

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 04/12/2021

4 Likes · 2 Comments · 431 Views
You may also like:
"वो पिता मेरे, मै बेटी उनकी"
रीतू सिंह
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
✍️कलम ही काफी है ✍️
Vaishnavi Gupta
रफ्तार
Anamika Singh
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
✍️कोई नहीं ✍️
Vaishnavi Gupta
सपना आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
तुम्हीं हो मां
Krishan Singh
ख़्वाहिशें बे'लिबास थी
Dr fauzia Naseem shad
पंचशील गीत
Buddha Prakash
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कोई एहसास है शायद
Dr fauzia Naseem shad
थोड़ी सी कसक
Dr fauzia Naseem shad
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️क्या सीखा ✍️
Vaishnavi Gupta
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हे तात ! कहा तुम चले गए...
मनोज कर्ण
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
मुर्गा बेचारा...
मनोज कर्ण
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
इंसानियत का एहसास भी
Dr fauzia Naseem shad
राम घोष गूंजें नभ में
शेख़ जाफ़र खान
बेरोज़गारों का कब आएगा वसंत
Anamika Singh
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta
बंदर भैया
Buddha Prakash
ब्रेकिंग न्यूज़
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...