Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

दारू के खतिरा भागेला

दारू के खतिरा भागेला
■■■■■■■■■■
कइले बा उ एतना देरी
करत होई केनहो फेरी
मित्र मण्डली मयखाना मेँ
होइहेँ सँ चाहे थाना मेँ
बाटे ओकर अजब कहानी
कि सुनीँ सभे सुनावत बानी
दुनिया मेँ का नाव कमाई
हवे छुछेरा घाव कमाई
पी के झगरा फरिआवेला
हीक हीक भर गरिआवेला
ओ के भीतर बाटे बूता
डटल रहेला खा के जूता
पनडोहा मेँ गीरे जा के
दाँत चिआरे नहा नहा के
मउगी गुरना के बोलेले
राज सजी ओकर खोलेले
बिखियाला पीटे लागेला
मिले जवन छीँटे लागेला
हार बेचि पीयेला दारू
छाती पीटेले मेहरारू
बदबू अजबे निकले तन से
राखे ओके बड़ी जतन से
जे ओकरा लगे आवेला
नाक दबा के मुँह बावेल
जहिया भर पेटा पी लेला
जिनिगी से बेसी जी लेला
बेहोशी जब चढ़े कपारे
जगा जगा सब केहू हारे
गाँथे खातिर सूई आवस
डाक्टर तहिया बहुते धावस
ओ के बहुत बहुत समझावस
बन्द करऽ तूँ दारू पीयल
करेजा मेँ क दी ई बीयल
जवना के मुश्किल बा सीयल
तबो बिहाने जब जागेला
दारू के खतिरा भागेला

– आकाश महेशपुरी

1 Like · 238 Views
You may also like:
यादों की बारिश का कोई
Dr fauzia Naseem shad
तप रहे हैं दिन घनेरे / (तपन का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
पिता है भावनाओं का समंदर।
Taj Mohammad
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
मर गये ज़िंदगी को
Dr fauzia Naseem shad
आपको याद भी तो करते हैं
Dr fauzia Naseem shad
.....उनके लिए मैं कितना लिखूं?
ऋचा त्रिपाठी
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
मेरी लेखनी
Anamika Singh
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
कुछ पंक्तियाँ
आकांक्षा राय
कर्ज भरना पिता का न आसान है
आकाश महेशपुरी
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
पहनते है चरण पादुकाएं ।
Buddha Prakash
न जाने क्यों
Dr fauzia Naseem shad
दुनिया की आदतों में
Dr fauzia Naseem shad
अधुरा सपना
Anamika Singh
पिता की अभिलाषा
मनोज कर्ण
इसलिए याद भी नहीं करते
Dr fauzia Naseem shad
सही गलत का
Dr fauzia Naseem shad
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
गीत
शेख़ जाफ़र खान
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
✍️जरूरी है✍️
Vaishnavi Gupta
मिसाले हुस्न का
Dr fauzia Naseem shad
अब और नहीं सोचो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...