Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

दर्द के मोती

सचमुच तू तो पागल है
जो करता एक ऐसी ज़िद्द!
जिसके पूरा होने की
यहां नहीं कोई उम्मीद!!
तेरे दर्द के मोती तो
चुनेगा कोई हंस ही
इस मरघट में भरे हुए
केवल कौए और गिद्ध!!
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
(A Dream of Love)

222 Views
You may also like:
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
इश्क
Anamika Singh
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
मेरा खुद पर यकीन न खोता
Dr fauzia Naseem shad
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
आस
लक्ष्मी सिंह
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सही गलत का
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Buddha Prakash
गीत
शेख़ जाफ़र खान
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
पिता
Deepali Kalra
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...