Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

तोहरा खातिर

तोहरा खातिर जग से लरना
तोहरा खातिर सब से डरना

दोउ प्रान रहल इक जान मगर
तोहरा खातिर जीना-मरना

•••

1 Like · 126 Views
You may also like:
कुछ नहीं
Dr fauzia Naseem shad
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
कौन था वो ?...
मनोज कर्ण
उफ ! ये गर्मी, हाय ! गर्मी / (गर्मी का...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रावण का प्रश्न
Anamika Singh
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
पिता - जीवन का आधार
आनन्द कुमार
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
दर्द की हम दवा
Dr fauzia Naseem shad
One should not commit suicide !
Buddha Prakash
दहेज़
आकाश महेशपुरी
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
बदलते हुए लोग
kausikigupta315
ठोकरों ने गिराया ऐसा, कि चलना सीखा दिया।
Manisha Manjari
यही तो इश्क है पगले
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
आनंद अपरम्पार मिला
श्री रमण 'श्रीपद्'
दया करो भगवान
Buddha Prakash
भगवान जगन्नाथ की आरती (०१
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
अपनी आदत में
Dr fauzia Naseem shad
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
पापा
सेजल गोस्वामी
पिता
Manisha Manjari
आइना हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...