Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jul 7, 2021 · 1 min read

तोहके निहारे

चमके चुनरिया चनरमा हो गोरी तोहके निहारे
देखते चहकि जाय मनवा हो गोरी तोहके निहारे

सब सुनराई के दिहलें खंघारी
तोहके विधाता जी रचलें सँवारी

केतनो बचाईं, नयनवा हो गोरी तोहके निहारे
चमके चुनरिया…………

कजरा में कँवरु कमेच्छा के जादू
गजरा सजा के गजब इतरालू

मह मह मह महके सिवनवा हो गोरी तोहके निहारे
चमके चुनरिया…………..

रूपवा के गगरी तनिक ढरका द
हँसि के ‘असीम’ आजु अमरित पिया द

कबले ई तरसी परनवा हो गोरी तोहके निहारे
चमके चुनरिया………….

© शैलेन्द्र ‘असीम’

1 Like · 135 Views
You may also like:
ये बारिश का मौसम
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"बेटी के लिए उसके पिता "
rubichetanshukla रुबी चेतन शुक्ला
तुम वही ख़्वाब मेरी आंखों का
Dr fauzia Naseem shad
ठोडे का खेल
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
बारिश की बौछार
Shriyansh Gupta
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कुछ कहना है..
Vaishnavi Gupta
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
गोरे मुखड़े पर काला चश्मा
श्री रमण 'श्रीपद्'
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मेरे पापा
Anamika Singh
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
वरिष्ठ गीतकार स्व.शिवकुमार अर्चन को समर्पित श्रद्धांजलि नवगीत
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पैसा बना दे मुझको
Shivkumar Bilagrami
"भोर"
Ajit Kumar "Karn"
पंचशील गीत
Buddha Prakash
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता का आशीष
Prabhudayal Raniwal
नदी बन जा तू
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
वृक्ष थे छायादार पिताजी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उसकी मर्ज़ी का
Dr fauzia Naseem shad
धन्य है पिता
Anil Kumar
कभी वक़्त ने गुमराह किया,
Vaishnavi Gupta
Loading...