Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

जनवादी गीत

तू याद करअ
कि का कहले
नानक,कबीर
या बुद्ध हो…
(१)
केहू नईखे
बाभन इहां
केहू नईखे
इहां शूद हो…
(२)
सबमें बहेला
ख़ून उहे
सबमें बहेला
उहे दूध हो…
(३)
तहरो अंदर
कुछ गंदा
हमरो भीतर
कुछ शुद्ध हो…
(४)
जात-पात से
मिल-जुलके
छेड़अ एगो
अब युद्ध हो…
(५)
अपना देश के
हालत से
कबले रहबअ
आंख मूंद हो…
(६)
चाल समय के
औरी अब
मत करअ
अवरूद्ध हो…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#KabeerReturns
#AmbedkarMovement

242 Views
You may also like:
जीत कर भी जो
Dr fauzia Naseem shad
कुछ नहीं
Dr fauzia Naseem shad
"याद आओगे"
Ajit Kumar "Karn"
पत्नि जो कहे,वह सब जायज़ है
Ram Krishan Rastogi
टूटा हुआ दिल
Anamika Singh
आदर्श पिता
Sahil
गरीबी पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
बहुमत
मनोज कर्ण
तू नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
पितृ महिमा
मनोज कर्ण
पिता
Saraswati Bajpai
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
मेरे पिता
Ram Krishan Rastogi
एक कतरा मोहब्बत
श्री रमण 'श्रीपद्'
रात तन्हा सी
Dr fauzia Naseem shad
दिल का यह
Dr fauzia Naseem shad
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
चिराग जलाए नहीं
शेख़ जाफ़र खान
सिर्फ तुम
Seema 'Tu hai na'
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
याद तेरी फिर आई है
Anamika Singh
मैं हिन्दी हूँ , मैं हिन्दी हूँ / (हिन्दी दिवस...
ईश्वर दयाल गोस्वामी
जागो राजू, जागो...
मनोज कर्ण
माखन चोर
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
बूँद-बूँद को तरसा गाँव
ईश्वर दयाल गोस्वामी
श्री राम स्तुति
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
Loading...