#23 Trending Author
Sep 23, 2021 · 1 min read

ग़ज़ल (हमरा स अहाँ जे रूसल छी)

गजल

हे यै बाजू ने किएक?
हमरा स’ अहाँ जे रूसल छी।

अहाँ छी तामसे अघोर
लाजे कठुआएल जेना हम भीजल छी।

आई बाजब नहि अहाँ स’ हम
किएक नहि हमरा कतबो मनाएब।

कि करू हम किछु नहि फुराए
गप करै लेल हमर मोन सुगबुगाए।

कहने रही अहाँ त‘ जे
एक संगे मेला घूमै लेल जाएब।

हम बुझबे नहि केलियै
जे अहाँ एतेक बहन्ना बनाएब।

सख मनोरथ सभटा रहिए गेल
किनि देलहुँ ने अहाँ झुमका-कंगना।

आबो भरि मुँह बाजि लियअ यै
देखू त’ की कहैत अछि हमर नैना।

शायर -किशन कारीगर
© काॅपीराइट

1 Like · 191 Views
You may also like:
चिट्ठी का जमाना और अध्यापक
Mahender Singh Hans
तुम बिन लगता नही मेरा मन है
Ram Krishan Rastogi
💐प्रेम की राह पर-25💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*!* मेरे Idle मुन्शी प्रेमचंद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
!!! राम कथा काव्य !!!
जगदीश लववंशी
💐💐तुमसे दिल लगाना रास आ गया है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आज की नारी हूँ
Anamika Singh
तुम धूप छांव मेरे हिस्से की
Saraswati Bajpai
*मेरे देश का सैनिक*
Prabhudayal Raniwal
छलके जो तेरी अखियाँ....
Dr. Alpa H.
नियमित बनाम नियोजित(मरणशील बनाम प्रगतिशील)
Sahil
मन
शेख़ जाफ़र खान
याद मेरी तुम्हे आती तो होगी
Ram Krishan Rastogi
¡*¡ हम पंछी : कोई हमें बचा लो ¡*¡
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
विरह की पीड़ा जब लगी मुझे सताने
Ram Krishan Rastogi
पिता
pradeep nagarwal
पुस्तकें
डॉ. शिव लहरी
मुक्तक
Ranjeet Kumar
💐💐प्रेम की राह पर-15💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गुणगान क्यों
spshukla09179
पिता और एफडी
सूर्यकांत द्विवेदी
*!* अपनी यारी बेमिसाल *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
पानी
Vikas Sharma'Shivaaya'
प्रेम की राह पर -8
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
# हमको नेता अब नवल मिले .....
Chinta netam मन
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
" राजस्थान दिवस "
The jaswant Lakhara
बताओ तो जाने
Ram Krishan Rastogi
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
Loading...