Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

केहू मरहम लगाई कहाँ मरदवा

अब बचल बा भलाई कहाँ मरदवा।
केहू मरहम लगाई कहाँ मरदवा।

तीर हमरी करेजा में लागल हवे,
दर्द तहरा बुझाई कहाँ मरदवा।

जख्म आपन देखावल खता हो गइल,
लोग देला दवाई कहाँ मरदवा।

जल रहल घर सभे हाथ सेंकत हवे,
आग केहू बुझाई कहाँ मरदवा।

आज बोतल पिआ के तू देखऽ तनी,
ई कदम लड़खड़ाई कहाँ मरदवा।

सांस धड़कन जिगर जान बाकी अबे,
‘सूर्य’ घायल कहाई कहाँ मरदवा।

दारू मुर्गा अलेक्शन में चाभऽ खुबे,
फेरु पइबऽ मलाई कहाँ मरदवा।

सन्तोष कुमार विश्वकर्मा ‘सूर्य’

149 Views
You may also like:
आइना हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
जिस नारी ने जन्म दिया
VINOD KUMAR CHAUHAN
वेदों की जननी... नमन तुझे,
मनोज कर्ण
धरती की अंगड़ाई
श्री रमण 'श्रीपद्'
मर्यादा का चीर / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️महानता✍️
'अशांत' शेखर
आपसा हम जो दिल
Dr fauzia Naseem shad
एक पनिहारिन की वेदना
Ram Krishan Rastogi
"विहग"
Ajit Kumar "Karn"
चलो दूर चलें
VINOD KUMAR CHAUHAN
जिम्मेदारी और पिता
Dr. Kishan Karigar
बस एक निवाला अपने हिस्से का खिला कर तो देखो।
Gouri tiwari
दिल में रब का अगर
Dr fauzia Naseem shad
इस दर्द को यदि भूला दिया, तो शब्द कहाँ से...
Manisha Manjari
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
द माउंट मैन: दशरथ मांझी
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
हम सब एक है।
Anamika Singh
'याद पापा आ गये मन ढाॅंपते से'
Rashmi Sanjay
कैसे गाऊँ गीत मैं, खोया मेरा प्यार
Dr Archana Gupta
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
मातृ रूप
श्री रमण 'श्रीपद्'
✍️पढ़ रही हूं ✍️
Vaishnavi Gupta
✍️सूरज मुट्ठी में जखड़कर देखो✍️
'अशांत' शेखर
बाबूजी! आती याद
श्री रमण 'श्रीपद्'
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
जीवन की प्रक्रिया में
Dr fauzia Naseem shad
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
भोजपुरी के संवैधानिक दर्जा बदे सरकार से अपील
आकाश महेशपुरी
Loading...