Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

कहिया ले सुनी सरकार

कहिया ले सुनी सरकार
■■■■■■■■■■■■■■
कहिया ले सुनी सरकार बतलाईं
कहिया ले सुनी सरकार

रोजी बाटे ना रोटी बा घर में
माँगत भीखि लोग जा के नगर में
लिहलें कटोरा हजार बतलाईं-
कहिया ले सुनी सरकार
कहिया…

उपाजे अनाज आ रही जा उपासे
ना कबो किसानन के सुख चढ़े बासे
कि सुने ना केहू पुकार बतलाईं
कहिया ले सुनी सरकार
कहिया…

अपने दवाई करावें विदेश में
राजा त राजा बा जनता कलेश में
जिनिगी भइल बाटे भार बतलाईं-
कहिया ले सुनी सरकार
कहिया…

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 28/10/2020

1 Like · 209 Views
You may also like:
प्यार
Anamika Singh
क्यों भूख से रोटी का रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Neha Sharma
✍️बदल गए है ✍️
Vaishnavi Gupta
यादें
kausikigupta315
पिता:सम्पूर्ण ब्रह्मांड
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
पिता
Meenakshi Nagar
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
स्वर कटुक हैं / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
वक़्त किसे कहते हैं
Dr fauzia Naseem shad
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
बरसात की झड़ी ।
Buddha Prakash
तपों की बारिश (समसामयिक नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
कभी ज़मीन कभी आसमान.....
अश्क चिरैयाकोटी
और जीना चाहता हूं मैं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
दर्द लफ़्ज़ों में लिख के रोये हैं
Dr fauzia Naseem shad
पिता आदर्श नायक हमारे
Buddha Prakash
मेरा गुरूर है पिता
VINOD KUMAR CHAUHAN
✍️आज के युवा ✍️
Vaishnavi Gupta
अनामिका के विचार
Anamika Singh
✍️हिसाब ✍️
Vaishnavi Gupta
"मेरे पिता"
vikkychandel90 विक्की चंदेल (साहिब)
बहुमत
मनोज कर्ण
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
नफरत की राजनीति...
मनोज कर्ण
घनाक्षरी छंद
शेख़ जाफ़र खान
Loading...