Oct 22, 2021 · 1 min read

कविता के मूल्यांकन

का तहरा कविता से
समय तहार बोलेला!
का तहरा कविता से
राजसिंहासन डोलेला!
का तहरा कविता से
पोल सबके खुलेला!
का तहरा कविता से
गरमी ख़ून में घुलेला!
Shekhar Chandra Mitra
#धार्मिककट्टरपंथ #सिंघुबार्डर
#CommunalPolitics

116 Views
You may also like:
कोई हमारा ना हुआ।
Taj Mohammad
दूजा नहीं रहता
अरशद रसूल /Arshad Rasool
चश्मे-तर जिन्दगी
Dr. Sunita Singh
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
प्रात का निर्मल पहर है
मनोज कर्ण
पिता
रिपुदमन झा "पिनाकी"
हमारे बाबू जी (पिता जी)
Ramesh Adheer
$ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
दुविधा
Shyam Sundar Subramanian
सच ही तो है हर आंसू में एक कहानी है
VINOD KUMAR CHAUHAN
देखो! पप्पू पास हो गया
संजीव शुक्ल 'सचिन'
बेजुबान और कसाई
मनोज कर्ण
ऐ जिंदगी कितने दाँव सिखाती हैं
Dr. Alpa H.
शहीद का पैगाम!
Anamika Singh
नित हारती सरलता है।
Saraswati Bajpai
यूं काटोगे दरख़्तों को तो।
Taj Mohammad
Blessings Of The Lord Buddha
Buddha Prakash
यह तो वक़्त ही बतायेगा
gurudeenverma198
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
गुलमोहर
Ram Krishan Rastogi
" राजस्थान दिवस "
The jaswant Lakhara
बरसात की छतरी
Buddha Prakash
धूप कड़ी कर दी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
खुद को तुम पहचानों नारी ( भाग १)
Anamika Singh
यादों से दिल बहलाना हुआ
N.ksahu0007@writer
【29】!!*!! करवाचौथ !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
औरतें
Kanchan Khanna
पिता !
Kuldeep mishra (KD)
हमारी मां हमारी शक्ति ( मातृ दिवस पर विशेष)
ओनिका सेतिया 'अनु '
!!*!! कोरोना मजबूत नहीं कमजोर है !!*!!
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
Loading...