Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
Jul 18, 2021 · 1 min read

करे के मन बा फसाद पियऊ

दिलवा पे छपल बा तुहरा ही नाम, ए रसदार बलमा,
खोलि पढ़ा मिली खूब तुहके अराम, ए रसदार बलमा,

आवा पढ़ाईं दिल के किताब पियऊ॥
आजु करे के मन बा फसाद पियऊ॥
देहिया निहारा जवन हउवे फुलवरिया,
नरम नरम बिछौना से साजल सेजरिया,
होंठवा भरल रस – गुलाब पियऊ॥
आजु करे के मन बा फसाद पियऊ॥
बिंदिया अ काजर ई लटकल नथुनिया,
देखा जातऽ बितल ई सगरो जवनिया,
बतिया पुरान करा याद पियऊ॥
आजु करे के मन बा फसाद पियऊ॥
काहे करे ला तू अब अइसन नदानी,
करेजवा के आगी पे डारि देता पानी,
खोजा का-का भईल राख पियऊ॥
आजु करे के मन बा फसाद पियऊ॥
कुल्हि काज आजु झटके निपटाईब,
लइकन के दादी के पजरीं सुताईब,
फुरसत से करबे आज हिसाब पियऊ,,
आजु करे के मन बा फसाद पियऊ,,
-गोपाल दूबे

214 Views
You may also like:
देश के नौजवानों
Anamika Singh
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
चमचागिरी
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
आंखों पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
पिता तुम हमारे
Dr. Pratibha Mahi
पिता
Dr.Priya Soni Khare
मेरा खुद पर यकीन न खोता
Dr fauzia Naseem shad
माँ (खड़ी हूँ मैं बुलंदी पर मगर आधार तुम हो...
Dr Archana Gupta
दो जून की रोटी उसे मयस्सर
श्री रमण 'श्रीपद्'
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
भूखे पेट न सोए कोई ।
Buddha Prakash
जाने क्या-क्या ? / (गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
प्राकृतिक आजादी और कानून
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
रफ्तार
Anamika Singh
हम भटकते है उन रास्तों पर जिनकी मंज़िल हमारी नही,
Vaishnavi Gupta
जीवन एक कारखाना है /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हमारी सभ्यता
Anamika Singh
पिता का पता
श्री रमण 'श्रीपद्'
नास्तिक सदा ही रहना...
मनोज कर्ण
हम और तुम जैसे…..
Rekha Drolia
जुद़ा किनारे हो गये
शेख़ जाफ़र खान
बेटी को जन्मदिन की बधाई
लक्ष्मी सिंह
✍️पढ़ना ही पड़ेगा ✍️
Vaishnavi Gupta
प्रेम में त्याग
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पिता जी का आशीर्वाद है !
Kuldeep mishra (KD)
जीवन-रथ के सारथि_पिता
मनोज कर्ण
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
Loading...