Oct 25, 2021 · 1 min read

कबले अंधेर होई?

सबेर होई हो
फेर होई हो
देसवा में कबले
अंधेर होई हो…
(1)
कबले रही पतझर
आख़िर बाग़ में
चिरईन के इहवा
बसेर होई हो…
(2)
एक होई धरती
एक होई आसमान
नफ़रत के कबले
डरेर होई हो…
(3)
क़ौम, नस्ल अउरी
मज़हब के नाम पर
आदमी के कबले
अहेर होई हो…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#जनवादीगीत #इंकलाबीशायर

121 Views
You may also like:
💐💐तुमसे दिल लगाना रास आ गया है💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सितम पर सितम।
Taj Mohammad
🥗फीका 💦 त्यौहार💥 (नाट्य रूपांतरण)
पाण्डेय चिदानन्द
आरज़ू है बस ख़ुदा
Dr. Pratibha Mahi
पिता का साया हूँ
N.ksahu0007@writer
ग़ज़ल
kamal purohit
पुस्तक की पीड़ा
सूर्यकांत द्विवेदी
सद्आत्मा शिवाला
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सारे ही चेहरे कातिल हैं।
Taj Mohammad
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
सहारा
अरशद रसूल /Arshad Rasool
ईद
Khushboo Khatoon
$गीत
आर.एस. 'प्रीतम'
💐प्रेम की राह पर-22💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हिंसा की आग 🔥
मनोज कर्ण
【21】 *!* क्या आप चंदन हैं ? *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
//स्वागत है:२०२२//
Prabhudayal Raniwal
मन्नू जी की स्मृति में दोहे (श्रद्धा सुमन)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
प्रेमिका.. मेरी प्रेयसी....
Sapna K S
आसान नहीं हैं "माँ" बनना...
Dr. Alpa H.
ग़म की ऐसी रवानी....
अश्क चिरैयाकोटी
माखन चोर
N.ksahu0007@writer
पहली मुहब्बत थी वो
अभिनव मिश्र अदम्य
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
तेरा मेरा नाता
Alok Saxena
【24】लिखना नहीं चाहता था [ कोरोना ]
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अम्बेडकर जी के सपनों का भारत
Shankar J aanjna
💐प्रेम की राह पर-31💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता
Rajiv Vishal
💐💐प्रेम की राह पर-17💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...