Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings

ओ बेवफा के प्यार में

जान रहे बाकिर कइसे अनजाना हो गइल
ओ बेवफा के प्यार में का का ना हो गइल

छूटल गाँव जवारों छूटल अउरी यार इयारी
हीत नात से नाता टूटल सभे देत बा गारी
दिल टूटल तऽ पागल, ई दीवाना हो गइल-
ओ बेवफा के प्यार में का का ना हो गइल

प्यार का कइनी, कऽ लिहनी हम अपना के बदनाम
ओकरे नाव रटीले सगरो छोड़-छाड़ के काम
नउवे रटते जिनिगी जेलखाना हो गइल-
ओ बेवफा के प्यार में का का ना हो गइल

जेकरा के हम चहनी कइनी सबसे बेसी प्यार
उहे लीहल चाहेला अब देखऽ जान हमार
उहे ले नाहीं बैरी ई जमाना हो गइल-
वो बेवफा के प्यार में का का ना हो गइल

हमरा के जे धोखा दीहल उहो नींद गँवाई
जे तरे हम तड़पत बानी चैन उहो ना पाई
धन-दौलत बा प्यार के पैमाना हो गइल-
वो बेवफा के प्यार में का का ना हो गइल

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- ०७/१०/२००९

1 Like · 1 Comment · 265 Views
You may also like:
कैसे मैं याद करूं
Anamika Singh
टूट कर की पढ़ाई...
आकाश महेशपुरी
इश्क
Anamika Singh
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
✍️सच बता कर तो देखो ✍️
Vaishnavi Gupta
प्रेम का आँगन
मनोज कर्ण
मेरे बुद्ध महान !
मनोज कर्ण
दिल ज़रूरी है
Dr fauzia Naseem shad
✍️वो इंसा ही क्या ✍️
Vaishnavi Gupta
मेरी अभिलाषा
Anamika Singh
जय जगजननी ! मातु भवानी(भगवती गीत)
मनोज कर्ण
मेरा खुद पर यकीन न खोता
Dr fauzia Naseem shad
Forest Queen 'The Waterfall'
Buddha Prakash
आस
लक्ष्मी सिंह
पिता - नीम की छाँव सा - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
हवा का हुक़्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
✍️गलतफहमियां ✍️
Vaishnavi Gupta
रूखा रे ! यह झाड़ / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
सही गलत का
Dr fauzia Naseem shad
पिता
Buddha Prakash
गीत
शेख़ जाफ़र खान
पापा जी
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
✍️दो पल का सुकून ✍️
Vaishnavi Gupta
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
सोच तेरी हो
Dr fauzia Naseem shad
नदी की पपड़ी उखड़ी / (गर्मी का नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कौन होता है कवि
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
"फिर से चिपको"
पंकज कुमार कर्ण
पिता
Deepali Kalra
तू कहता क्यों नहीं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...